Sunday, April 21, 2024

TOPIC

Unity in diversity

India, through the ages and beyond

The Idea of India, is a nuanced structure composed of often opposing and complementing tendencies, coupled with persistent attempts to emphasise fraternity.

पृथक-पृथक संस्कृतियों का विकास एवं उत्थान, पारस्परिक सहिष्णुता एवं समन्वय से ही संभव

भारत सिर्फ एक देश ही नहीं अपितु एक राष्ट्र भी है। जिसकी संस्कृति, ज्ञान एवं विचार का अनुशीलन, अनुपालन और अनुसरण संपूर्ण विश्व प्राचीन काल से ही करता आया है।

देश रंगीला

आप एक ऐसे देश में रहते हैं जहां नियम कानून के विषय में सोचना नही। बस अपने अनुसार चलते रहो। खुश रहो और अपने को राजनैतिक दलों का भेड़ मानते हुए बस निष्ठावान बने रहो।

विविधता या विभाजन

आज देश को बोस के विचारों को और गम्भीरता से पढ़ने और समझने की ज़रूरत है, भगत सिंह के सारे लेखों को पढ़ने समझने की ज़रूरत है, ज़रूरत है कि सावरकर और अम्बेडकर के विचारों को भी खुले दिमाग़ से समझा जाए और विभाजनकारी सोच को पूरी तरह ख़त्म किया जाए।

Unveiling: unity in diversity

Challenging my ideals since childhood, I asked myself, what makes us so proud of our Unity in Diversity? To go deep first let us see what makes anybody proud of anything?

Unity in Diversity: A different perspective

Unity in diversity doesn't belong to a mass of various communities but our Sanatan Culture is itself an live instance of it.

Nationalism and spirit of one India is not against diversity and plurality – Let us support Prime Minister Narendra Modi

Nationalism when we invoke and the ethos of one India when we kindle, such a move is only meant to protect and encourage the diversity and not to destroy it.

Mana Kutumbam

It's now time for the opposition to Stand up and deliver. It's time for the opposition to believe in "Mana Kutumbam" and deliver for the Indian Family by putting aside their prejudices, egos and individual ambitions.

Latest News

Recently Popular