Saturday, January 23, 2021

TOPIC

Satire

The curious case of crackers polluting once out of 365 days

Read the other points of this judgement

जब अब्दुल्ला को सेना ने जीप से बांधकर घसीटा

पत्रकार महोदय गर्मियों की छुट्टियां मनाने कश्मीर आये हुए थे, सो सोचा कि क्यों न अब्दुल्ला बाप बेटों से भी मुलाक़ात कर ली जाए.

कुछ दिन तो गुजारिये गधराज में!

राजनीती की प्रयोगशाळा कहे जाने वाले उत्तरप्रदेश में गणतंत्र को गधातंत्र कैसे बनाया जाता है ये यूपी के नेताओ से अच्छा भला कौन बता सकता है। यहाँ गधो के लिए, गधो के द्वारा, गधो की ही सरकारे बनती आयी है।

Engineering student to celebrate valentines day with the poster of his favorite actress

The boy has been in a relationship with his poster since his early teens.

Eligibility cutoff of CAT- Career in Advanced Terrorism, brought down for Hindus

Easier for Hindus to pursue Terrorism as a career. IEIA suggests the move will help them in advancing the 'Idea of Intellectual Terrorism.'

व्यंग्य : परवेज़ भाई और जुगाली

आज कल की राजनीति पर एक व्यंग्य

Shocking pictures of elephant cruelty in Indian temples, and a truth

The poor mammoth was being bathed with cold water in the warm afternoon unnecessarily bringing some relief from the heat. The cruel mahouts didn't care to ask for the elephant's permission to bathe it. What a brutality!

व्यंग्य : पनीर बंद करने से केजरीवाल सरकार पर नाराज

आखिर केजरीवाल सरकार क्यों नाराज है

Satire: Liberal Conversations — So It Goes

A satire piece on liberals

Latest News

The historic and hopeful January 20, 2021

Let January 20 serve as a stark reminder for the world at large that the democracy may have been halted temporarily but it has returned with greater hope and not fear.

खालसा पंथ की सिरजना के पीछे का ध्येय और गुरु गोबिंद सिंह जी

गुरु गोबिंद सिंह जी द्वारा स्थापित खालसा पंथ और उनकी बलिदानी परंपरा के महात्म्य को समझने के लिए हमें तत्कालीन धार्मिक-सामाजिक-राजनीतिक पृष्ठभूमि और परिस्थितियों पर विचार करना होगा।

कश्मीरी हिन्दूओ का नरसंहार और 31 साल का इंतजार

19 जनवरी 1990 का वो दिन कोई भी कश्मीरी हिन्दू कभी नहीं भूल सकता। 19 जनवरी 1990 का वो दिन न सिर्फ भारत के लिए बल्कि पूरे विश्व के लिए एक काला दिन है।

धार्मिक आतंकवाद

समाज का एक धड़ा है जो कि शकुनि और मंथरा से भी लाखों गुना कपटी और क्रूर है, जो धर्मनिपेक्षता, उदारवादिता और बुद्धिजीविता का नक़ली मुखौटा लगाये आपकी मानकिसकता पर क़ब्ज़ा कर आपके आत्मसम्मान और पहचान को अपंग बनाये बैठा है।

Tale of India’s greatest test victory in Australia

Finally the Indian flag hung around one of the unbreached fortresses at Gabba. The haughtiness which Australians displayed on the field was put down to dust by fearless Indians.

Recently Popular

Daredevil of Indian Army: Para SF Major Mohit Sharma’s who became Iftikaar Bhatt to kill terrorists

Such brave souls of Bharat Mata who knows every minute of their life may become the last minute.

गुप्त काल को स्वर्ण युग क्यों कहा जाता है

एक सफल शासन की नींव समुद्रगप्त ने अपने शासनकाल में ही रख दी थी इसीलिए गुप्त सम्राटों का शासन अत्यधिक सफल रहा। साम्राज्य की दृढ़ता शांति और नागरिकों की उन्नति इसके प्रमाण थे।

5 Cases where True Indology exposed Audrey Truschke

Her claims have been busted, but she continues to peddle her agenda

Taj Mahal Secrets (part-2)

Some unexplainedfacts of Taj Mahal

Girija Tickoo murder: Kashmir’s forgotten tragedy

her dead body was found roadside in an extremely horrible condition, the post-mortem reported that she was brutally gang-raped, sodomized, horribly tortured and cut into two halves using a mechanical saw while she was still alive.