Tuesday, April 20, 2021

TOPIC

Satire

Meghan Markle promises to return the Kohinoor to India

The Kohinoor is coming back to where it truly belongs.

सहिष्णुजन पर व्यंग

क्या हुआ… बड़े डरे डरे से नज़र आ रहे हो कही मज़हबी नारे सुन कर आ रहे हो??

‘पुलिस के पुरुषार्थ’ की कीमत हिंदुओं का शव

सेक्युलरिज्म, धार्मिक सौहार्द की कीमत तो हमेशा से हिंदुओं के शवों से चुकाई जाती रही है। इसमें कोई नई बात नही है। ये तो परम्परा रही है।

Celebrities – a news factory

Perhaps celebs' market value depends on how popular they are, how many followers they have on Twitter, Facebook etc. So they have this compulsion to keep their visibility high, at all costs.

The pursuit of mediocrity

Are there not topics that can be lampooned and satirized without the need to invoke the Constitution? How bad is your comedy that you have to invoke the Constitution anyway?

हरी चटनी और लाल सलाम

अब्दुल मियाँ की दुकान बढ़िया दूर से ही पहचान में आ जाती है। दसियों हरे झंडे दिखाई देते हैं। यही तो पहचान है जिसे गाँव के बुद्धिजीवी किलोमीटर से सूंघ लेते हैं।

The one way secularism and why tolerance is it’s necessary evil

So, Indians' tolerance level is directly proportionate to the govt they elect. If they want to be tolerant, they will elect a non BJP govt., if they want to decrease, they will elect Modi govt!

Saving the idea of India

Should Mickey (Valmiki) have not been more inclusive and given name Rehman instead of Hanuman and Agatha instead of Agastya? Such bandicoot the wrier was!

सेक्युलरिज्म का साँड़ अब लाल नहीं अपितु भगवा रंग देखकर खिसियाता है

हमने इस बार उसे नारा लगाने दिया। जब दो चार नारा लगाने के बाद वो हांफ गया और उसके फेफड़ों से सीं सीं की आवाज़ आने लगी तब हमने कहा, "सांस ले लो भाई, नहीं तो कहीं तुम्हारे लब आज़ाद हो गए तो तुम्हारे कामरेड बोलने लगेंगे, मूडी मस्ट रिजाइन, मूडी मस्ट रिजाइन"।

महाराष्ट्र में मजदूरों की मृत्यु और माननीयों की राजनीति पर लिखी एक ग़ज़ल

गरीब मजदूरों को अपने राज्य से भगाने और केंद्र पर बेवजह के आरोपों तथा अन्य समकालीन घटनाओं पर लिखित एक गजल।

Latest News

Recently Popular