Wednesday, September 28, 2022

TOPIC

Hinduism a culture

The blind spot of Hindus now– Guruparampara and jailed Gurus

The present day problem in India is not between Hindus vs rest or anti – Hindu forces. It is difference between Neo-hindus or superficial Hindus vs practising Hindus. Nearly 1000 years of infiltration of crude and violent and cunning civilizations have slowly taken  Hindus away from its deep traditions. Systemically they have alienated Hindus from its two principal source- Gurus and Gurukul system. In India and south east Asia, they copycat Gurukul to Madras and it has flourished thousand-fold. In India there are very few Gurukuls are actually running now. When the Britishers came, Indian education was gurukul based primarily.That is out traditions survived thousand years.  Western indoctrination, Bollywood Brainwashing has created the hybrid Hindus who see their own deep-rooted rituals with doubt and low esteem.

गौड़ीय संप्रदाय के प्रथम आचार्य चैतन्य महाप्रभु

गौड़ीय संप्रदाय के प्रथम आचार्य माने जाने वाले चैतन्य महाप्रभु ने लोगों में पारस्परिक सद्भावना जागृत की और उनको जातिगत भेदभाव से ऊपर उठकर समाज को मानवता अपनाने के लिये प्रेरित किया। इन्हीं सब कारणों के चलते इनको असीम लोकप्रियता और स्नेह प्राप्त हुआ।

नए संसद भवन के भूमि पूजन के समय, मोदी जी ने उथिरामेरूर का उल्लेख किया था: क्यों?

उथिरामेरूर चेन्नई से लगभग ९० किमी दूर कांचीपुरम जिले में स्थित है, जो अपने आप में १२५० वर्षों का इतिहास समेटे हुए है। और आप को यह जानकर आश्चर्य होगा कि भारत में विद्दमान लोकतंत्र का सर्वोत्तम मॉडल है।

संसार की सबसे प्राचीन परिक्रमा ६०० वर्षों बाद पुन: प्रारम्भ

प्रतिवर्ष यह पावन वार्षिक परिक्रमा कार्तिक माह की देवोत्थान एकादशी से प्रारम्भ हो कर कार्तिक पूर्णिमा तक पांच दिनों की होती है। इस वर्ष की परिक्रमा १४ नवम्बर से १८ नवम्बर २०२१ तक सम्पन्न हो रही है।

दसे दशहरा, बीसे दिवाली, छऊवे छठ

दशहरा हमारे सनातन धर्म में यानि  हिन्दू धर्म के लोगों का एक अत्यन्त महत्वपूर्ण त्यौहार है।

जैसा ज्ञान, वैसा भगवान

अपनी उत्पत्ति से ही मनुष्य ने अपने ईश्वर को जानने की कोशिश की है, भले ही अभी तक सफल न हो पाया हो पर शायद अपने ज्ञान के प्रति निरंतर प्रयासों से एक दिन वह अपने इस सृष्टि के निर्माता को समझ पाए।

Hinduism and science

Hinduism has a lot to offer to modern science.

अक्षय फलदायक पर्व है अक्षय तृतीया

वैशाख मास में शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को बसंत ऋतु का समापन होकर ग्रीष्म ऋतु प्रारम्भ होती है और इसी दिन को हम सनातनी अक्षय तृतीया या आखा तीज कहते हैं।

Understanding importance of family in conservation of Dharma

As Hindus, we often do not understand the significance of the family as a unit of society in protecting Dharma and keeping its principles alive.

Is caste system an integral part of Hinduism?

It is necessary to demolish the myth that caste system is an intrinsic part of Hinduism. Moreover, this myth has harmed relations between the so-called upper castes and lower castes.

Latest News

Recently Popular