Sunday, January 29, 2023

TOPIC

Environment

ओडिशा-बंगाल में ‘साइक्लोन असानी’ दिखा सकता है रौद्र रूप, समुद्री तूफानों ने पूर्वी घाट को कई बार किया है तहस-नहस

चक्रवात असानी श्रीलंका द्वारा दिया गया एक नाम है जिसका अर्थ सिंहली में 'क्रोध' होता है। असानी के बाद बनने वाले चक्रवात को सितारंग कहा जाएगा, जो थाईलैंड द्वारा दिया गया नाम है।

एक साल पहले शिवराज द्वारा शुरू की गई हरित क्रांति आज ले चुकी है जन-आंदोलन का रूप

पौधरोपण अभियान को जन आंदोलन बनाने का ही नतीजा है कि वन क्षेत्र के मामले में मध्यप्रदेश, देश भर में पहले स्थान पर है। हाल ही में जारी हुए फॉरेस्ट सर्वे रिपोर्ट 2021 में बताया गया है कि क्षेत्रफल के हिसाब से मध्यप्रदेश का वन क्षेत्र पूरे प्रदेश के भौगोलिक क्षेत्र का 25.14 प्रतिशत है।

Sustainable tree plantation and afforestation

It is also argued that plantation and afforestation programs must address the issues of pollution, forest fire, and generation of employment in rural areas. 

When electricity had no use!

Reflections on Earth day - how our life changed in last few decades and its cost on environment.

Animal welfare and food safety law violations in chicken production

It is a standard practice to give feed laden with antibiotics to grow the bodies of chickens unnaturally fast. Their legs get crippled because of the unnatural weight gain. They can’t walk or reach the food or water.

Need for change in popular behavior towards energy security

The unnecessary high energy consumption behavior in urban regions is due to a lack of knowledge about energy saving behavior and availability efficiency measures.

India, and sustainable development

India can lead the world in making progress towards the targets for sustainable development. Many of these targets align with India's own interests.

Our environment is our life

Resource are limited and desires are endless. Even if you get kingdom of the entire world, will desires cease?

The metro-centric democracy

We need to move out of the metro cities not only physically but also psychologically. Let us not remain the “Metro-centric” democracy even in the 21st century.

केवल जन आन्दोलन से प्लास्टिक मुक्ति अधूरी कोशिश होगी

किसे पता था कि आधुनिक विज्ञान के एक वरदान के रूप में हमारे जीवन का हिस्सा बन जाने वाला यह प्लास्टिक एक दिन मानव जीवन ही नहीं सम्पूर्ण पर्यावरण के लिए भी बहुत बड़ा अभिशाप बन जाएगा।

Latest News

Recently Popular