Tuesday, April 20, 2021

TOPIC

Dalit Votebank

दलित प्रेम दिखावा है?

बार–बार दलित–मुस्लिम एकता के दुहाई देने वाले नेता गण इस मामले से बचने की कोशिश क्यों कर रहे हैं? क्या दलित–मुस्लिम गठजोड़ की बात करना सिर्फ चुनावी स्टंट है? देश में स्वघोषित दलित नेता का दलित प्रेम सिर्फ दिखावा है।

भीमा कोरेगांव का प्रपंच

1 जनवरी को फिर से भीमा कोरेगांव का जिन्न जागेगा और दुष्ट अंग्रेजों के विजय की बरसी मनाई जाएगी, रवीश अपने फेसबुक पर प्रपंच फैला चुका है एवं अन्य वामी कामी उसके फिराक में हैं।

दलित!

विलुप्त होती कांग्रेस के लिए दलित सम्मान के ऐसे मौके शायद सिर्फ राजनीतिक जरूरत हैं। दलित सशक्तिकरण का कोई उदाहरण मुझे तो याद नही आता।

“Jai Bhim – Jai MIM” is an insult to Babasaheb

If we are serious about carrying on the legacy of Babasaheb, we must ensure that the people who lead us or claim to be our leaders should never fool us into treading a path which is, in essence, the same as that of Jogendra Nath.

भारत में जातिवादी टकराव सच है या राजनीति

हाल के ही दिनों में दो प्रमुख घटनाएँ सामने आयीं है जिसे देख के लगता है की भारत में जातिवादी भावना भरी गई है ताकि हिन्दुओं में टकराव बना रहे और कुछ तथाकथिक धर्मनिरपेक्ष राजनितिक दल अपना प्रभाव और प्रभुत्व भारत में बना के रख सकें।

दलित संघी

मेरा दलित होना या नही होने का आधार मेरी जाति या मेरे साथ होने वाला भेदभाव नहीं है अपितु मेरी जाति के तथाकथित ठेकेदारों की विचारधारा है, जो उस भ्रष्ट ठेकेदारी प्रथा के साथ है उनके हिसाब से वो सब दलित है और जो इस विचारधारा के साथ नहीं वो केवल एक कट्टर संघी हिन्दू है।

अम्बेडकरवादियों का सच

बाबासाहेब का यथार्थवाद वर्तमान समय में किसी भी राजनीतिक दल के खांचे फिट नहीं बैठता। आंबेदकरवाद का पुर्ण अनुकरण किसी दल या नेता के बस की बात नहीं हैं।

Dalit discrimination in Shivratri Festival of Mandi (Himachal Pradesh) – Is the case ‘Rightly’ interpreted?

Many Dalit writers, scholars, and left-liberals have pointed out this issue in social media and try to interpret the situation from the aspect of the Brahminical hegemony of the religion.

Rise of EV Ramasamy Naicker and the fall of Tamil Nadu

EV Ramasamy Naicker (EVR) is portrayed as ‘above God’ image by his so called disciples and the splinter political party that has established Dravidian dynasty and family rule in Tamil Nadu.

Communism is against Indian Ethos

The communists have been trying to peel away the Indian way of life, looking for similarities between the class struggles in Europe and conditions in India to fit their narrative and somehow gain legitimacy to survive.

Latest News

Recently Popular