Wednesday, April 21, 2021

TOPIC

zaira wasim

सेकुलरिज्म या दिखावा, धर्म के नाम पर व्यक्तिगत आजादी का हनन क्यों?

सेकुलरिज्म की आड़ में अपने अजेंडे सेट करने वालों के लिये यही सवाल खड़ा होता है कि क्या अब सभी को एक दूसरे के धार्मिक त्योहारों पर बधाई देना, उनकी ख़ुशी में शामिल होना, उनमे भाग लेना बंद कर देना चाहिए?

Are we as bad as Jihadis?

Entertainment industry (Anurag Kashyap, Aamir Khan, Shirish Kunder, etc) is on mission to save Indian secularism and culture, which RSS is otherwise killing, by it's maligning communal propaganda.

उस गुनाह की माफ़ी जो किया ही नहीं

वो लड़की जिसने 10 वीं की परीक्षा में 92% मार्क्स प्राप्त किए हो उसके द्वारा इस प्रकार माफी माँगना उसके लिए नहीं बल्कि पूरे देश के लिए शर्मनाक है।

भारतीय लिबरल (उ’धा’रवादी)

देश के लिबरल्स के रवैये को देख के इन्हें उदारवादी की जगह उधारवादी कहना हीं ठीक होगा क्योंकि उनकी उदार सोच उधार मांग के लायी गयी सोच लगती है और ये सोच सिर्फ तभी सामने आती है जब चंद दक्षिणपंथी हिन्दू इनके सोच की कसौटी पे खड़े नही उतरते।

Zaira Wasim’s apology: An appeal for life from a mermaid to the sharks

Zaira Wasim, a young actress from Kashmir valley, who essayed the role of young “Geeta Phogat” in the recent blockbuster “Dangal” has apologized. Why? You read and decide for yourself.

Why I am not surprised at Kashmiri groups targeting Dangal star Zaira Wasim

All support for the child actor sounds good but this bound to happen in a place like Kashmir.

Latest News

Recently Popular