Tuesday, April 16, 2024

TOPIC

#TmcViolence

त्रिपुरा निकाय चुनाव का संदेश

वास्तव में पश्चिम बंगाल चुनाव में के बाद विपक्ष की कल्पना ठीक वैसी लगती है, जैसे कांग्रेस मे 2018 में मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ और राजस्थान में हुए विधानसभा चुनाव में अपनी जीत के बाद मान लिया था कि भाजपा अब अपने पराभाव की तरफ बढ गयी है तथा कांग्रेस नेता राहुल गांधी के नेतृत्व का पुनरोदय हो रहा है।

The night of broken glass: Religious fanaticism that costs lives in Israel and India

India, condemned to politicians who are either sleeping with the enemy, or tragically incapacitated by its machinations, remains oblivious to the lessons of history and as a consequence, the fate of its citizens.

TMC and violence: Brutal attacks on local BJP workers is normal in West Bengal

The recent attack on Gopal Majumdar's (a local BJP worker) octogenarian mother in WB, manifests the inherent violent antagonism against the BJP among the TMC's leaders and workers.

Fascism in Bengal- Now and then

Lathicharge, chemical shots, teargasses were used against the democratic procession organised by BJYM West Bengal, karyakartas were non-violently marching to state secretariat.

A single phase election in West Bengal- Can it be made a reality?

There are basic contradictions in the ruling party i.e., TMC's stand. If the party makes an introspection it would realize unreasonableness of its own stand.

बंगाल में मर रहा मानव, ममता बनर्जी सरकार की विफलता का असर

ममता बनर्जी सरकार की विफलता का असर. बंगाल में कोई भी सुरक्षित नहीं बंगाल के सत्ताधारी लोग ही बने हत्यारे

‘राम’ के त्यौहार से शुरू दंगो की ख़बरें ‘वाम’ की मीडिया नहीं बताएगी!

नरेंद्र मोदी के मुख्यमंत्री रहते आए दिन गुजरात पुलिस को कोसने वाली ये गोदी मीडिया आज क्यों नहीं बोल रही?

Latest News

Recently Popular