Saturday, November 28, 2020

TOPIC

sanatan dharma

Reject Rashtrawad: Redefining our sense of Rashtra

The aspect of spirituality calls for critical interventions on the term rashtrawad which is used as a synonym for nationalism in the Bharatiya context.

Reject rightism: Redefining our political orientation

Bharat is experiencing a political change, but a new political phase is yet to begin. A political orientation which is not Left, Right or Centre, but a constructive force that evokes a deep sense of Bharat.

धर्म – कर्म

वह क्या है जिससे सद्कर्म की प्रेरणा मिलती है? कौन है जो जीवन को दिशा प्रदान करता है? किसे पढ़, सुन और देख मनुष्य अपने कर्म निर्धारित करता है?

दिल्ली दंगो के नाम एक कविता “सब याद रखा जाएगा”

नही भूले है हम कश्मीर हमारा; नही भूलेंगे दिल्ली दुबारा.. सबकुछ लोगो को बताया जाएगा; सब याद रखा जाएगा।

What is caste in Sanatan Dharma?

caste in Hindu Dharma is more to do with ones nature and his motivations in this life than a badge of honour or competition with belief of anyone else. Caste is not based on rituals one performs but reasons behind those rituals.

Post Corona: Arrival of new juggernaut called Sanatan

Humanity has won battle larger and more sinister than Covid and emerged victorious. The figurative depiction of Dash Avtaar from Matsya to Lord Kalki is scientific story of evolution of humanity from Single cell water creature to land born Homo sapiens.

Unity in Diversity: A different perspective

Unity in diversity doesn't belong to a mass of various communities but our Sanatan Culture is itself an live instance of it.

Dear Hindu! Stop giving justification to everyone

Accept your identity and declare your existence. There is no need to hide our folklore, traditions and Sanatan under the cover of science.

वर्ण व्यवस्था और जाति व्यवस्था के मध्य अंतर और हमारे इतिहास के साथ किया गया खिलवाड़

वास्तव में सनातन में जिस वर्ण व्यवस्था की परिकल्पना की गई उसी वर्ण व्यवस्था को छिन्न भिन्न करके समाज में जाति व्यवस्था को स्थापित कर दिया गया। समस्या यह है कि आज वर्ण और जाति को एक समान माना जाता है जिससे समस्या लगातार बढ़ती जा रही है।

पारंपरिक भारतीय मूल्य Covid19 से लड़ने के लिए कैसे सही हैं

यह समझने की जरूरत है कि हालांकि भारत के पास Covid19 को ठीक करने के लिए वैक्सीन बना पाने की ठीक ठाक संभावना है, लेकिन रहस्यमय वायरस से लड़ने के लिए बहुत सारे विचार अवश्य हैं।

Latest News

Teachers assign essays with a 280 character limit

This a satire news article, which 'reports' that the government has added 280 character essays to the educational curriculum in an attempt to train students to use Twitter in the future. Note: I have chosen an image of a school from your media library and added the twitter logo on top of it.

हिन्दू विरोधी वैचारिक प्रपंच, शब्दों का भ्रम (भाग-१)

धर्म शब्द को जिस प्रकार अनुचित अनर्थकारी व्याख्या के साथ प्रचलित किया गया है। इससे अधिक विनाशकारी आघात हिन्दू समाज को संभवतः ही किसी और शब्द से हुआ हो।

26/11 : संघ और हिंदूओं को बदनाम करने के लिए कांग्रेस का सबसे घटिया प्रयास

Hinduism is a complex, inclusive, liberal, tolerant, open and multi-faceted socio-spiritual system of India called “Dharma”. Due to its innumerable divergences, Hinduism has no concept of ‘Apostasy’.

Hinduism: Why non-Hindus can’t comprehend

Hinduism is a complex, inclusive, liberal, tolerant, open and multi-faceted socio-spiritual system of India called “Dharma”. Due to its innumerable divergences, Hinduism has no concept of ‘Apostasy’.

आओ तेजस्विनी, प्रेम की बात करें

इसे लव जिहाद कहा जाये या कुछ और किन्तु सच यही है कि लड़कियों के धर्म परिवर्तन के लिए प्रेम का ढोंग किया जा रहा है और उसमें असफलता मिलने पर उनकी हत्या।

Recently Popular

गुप्त काल को स्वर्ण युग क्यों कहा जाता है

एक सफल शासन की नींव समुद्रगप्त ने अपने शासनकाल में ही रख दी थी इसीलिए गुप्त सम्राटों का शासन अत्यधिक सफल रहा। साम्राज्य की दृढ़ता शांति और नागरिकों की उन्नति इसके प्रमाण थे।

सामाजिक भेदभाव: कारण और निवारण

भारत में व्याप्त सामाजिक असामानता केवल एक वर्ग विशेष के साथ जिसे कि दलित कहा जाता है के साथ ही व्यापक रूप से प्रभावी है परंतु आर्थिक असमानता को केवल दलितों में ही व्याप्त नहीं माना जा सकता।

The story of Lord Jagannath and Krishna’s heart

But do we really know the significance of this temple and the story behind the incomplete idols of Lord Jagannath, Lord Balabhadra and Maa Shubhadra?

Pt Deen Dayal Upadhyaya and Integral Humanism

According to Upadhyaya, the primary concern in India must be to develop an indigenous economic model that puts the human being at centre stage.

Daredevil of Indian Army: Para SF Major Mohit Sharma’s who became Iftikaar Bhatt to kill terrorists

Such brave souls of Bharat Mata who knows every minute of their life may become the last minute.