Thursday, September 24, 2020

TOPIC

Questioning Hindu Practices

Who is responsible for the current challenges India is facing as a nation?

We are losing our identity. We are allowing people to question the existence of Bhagwan Shree Ram. Some goons destroy a temple of Mata Durga, and we do nothing about it.

जाति व्यवस्था वर्ण व्यवस्था एवं प्रचलित वैचारिक विष

जाति व्यवस्था पर हमारे समाज में अत्यधिक भ्रम उत्पन्न किया गया है। इतने वर्षों के घोषित अघोषित दासता काल में हिन्दू सभ्यता के विरुद्ध अनेक षड्यंत्र किये गए हैं। जैसे वर्तमान में सर्वाधिक प्रचलित षड्यंत्र है caste system।

Sita; the wisdom personified

These facts regarding Devi Sita suggest explicitly that, we must avoid being highly judgmental regarding her because she is sufficiently competent to prove herself unequivocally.

“नायकू कहो या मैथ टीचर” मगर अपराध की दो परिभाषाएं नहीं होतीं

क्रिमिनल्स का victimisation एक गम्भीर समस्या है। और ये सब सिर्फ वर्तमान के विवाद की समस्याएं नहीं हैं, ये राष्ट्र के भविष्य के चरित्र निर्माण की समस्याएं हैं। ये प्रश्न करती हैं कि आप अपनी अगले पीढ़ी को कैसे नायक देना चाहते हैं।

सदाशिव भगवान शिव श्री “गुरू गोरखनाथ” महिमा एवं “गोरख-धंधा” शब्द अनुचित

आजकल प्रिन्ट मीडिया “गोरख-धंधा” शब्द का प्रयोग धडल्ले से बिना भगवान शिव के महायोगी स्वरूप को जाने हर अवैध व अनैतिक कार्य के संबंध में कर रहा है।

लेफ्ट लिबरल्स

प्यारे लेफ्ट लिबरल्स, तुम एक बात भूल गए, तुम न जाने कितने दशकों से एड़ी चोटी का जोर लगा रहे हो, लेकिन हमारी सभ्यता, संस्कृति, आदत, खान पान, शादी विवाह, परिवार, बच्चे, करवा चौथ, होली, दिवाली, रक्षाबंधन, भाई दूज, पोंगल, खिचड़ी, छठ, कावड़ यात्रा, अर्ध कुम्भ, महा कुम्भ, राम नवमी , शिवरात्रि, विजयदशमी, दुर्गा अष्टमी, चारों धाम, गंगा दशहरा, पांच कोसी परिक्रमा, लाल बाग़ के राजा की शान कछु नाही बदल पाए।

What Twitter Trads have got wrong about Sadhguru Jaggi Vasudev and they must see the bigger picture!

The venom spewed on Sadhguru Jaggi Vasudev by the Left is obvious, but the "schooling" by the non-Left Trads is misplaced and born out of shortsightedness.

Modern day Don Quixotes

Our modern day Don Quixotes are activists without a cause. They are mostly Hindus. They are out to save secularism. From Hindus.

सती प्रथा: एक समग्र विश्लेषण

विधवा विवाह और सती प्रथा दो विपरीत प्रथाएँ हैं जिनका सह-अस्तित्व कभी भी संभव नहीं। अर्थात अगर विधवा विवाह प्रचलित है तो सती प्रथा का कोई औचित्य ही नहीं है। निस्संदेह सती प्रथा मूल हिंदू धर्म का कोई अंग नहीं था। फिर यह कुरीति समाज में कैसे शुरू हुई?

अश्वमेध यज्ञ और फैली भ्रांतियाँ

वर्तमान में स्वघोषित बुद्धिजीवी हिंदुत्व की आलोचना कर स्वयं को गौरवान्वित महसूस करते हैं। धर्मग्रन्थों को बिना समझे उनमें लिखी बातों का मनमाना अर्थ निकलकर दुष्प्रचार करना इन तथाकथित बुद्धिजीवियों का शौक बन गया है।

Latest News

वन्स अपॉन ऐ टाइम इन मुंबई …नाउ इन उत्तर प्रदेश!

आज सुशांत हमारे बीच नहीं है पर जब जब उत्तर प्रदेश फिल्म सिटी की बात की जाएगी सुशांत सिंह राजपूत का नाम स्वतः ही सबको याद आएगा। मेरी मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश से सविनय निवेदन है की प्रस्तावित फिल्म सिटी में सुशांत के नाम पर कुछ न कुछ जरूर बनाया जाए।

India is watching

Every institution in the country, however powerful, derives its justification from the people. The reawakening in the civilisation is visible. The cause of the yearning is not because Modi is in power. Modi is in power because of the awakening. The expression has just begun.

Silence is the digital coffee break!

Our new reality is virtual life and specially the professional life. We have to bring to physical real life as much as possible.

Farmer bills 2020: Protest or celebrate?

It’s time to celebrate and not protest, as the exploitation masters have been tossed up by these reforms and at the same time empowered and enhanced value of our lovely farmers socially and economically.

Suppressing Maratha history in school textbooks

Secularism has never inspired anyone to do anything, except indulging in laziness. A nation without history is like a man without soul. We urgently need to recast our history books by focusing on a few critical points.

Recently Popular

Nationalism and selective secularism

the word "Nationalism" is equated with the word "fascism" or the sense of Nationalism is portrayed as against the idea of India. It is not incorrect to deny that the secular lobby is phenomenal at drawing false equivalences.

पोषण अभियान: सही पोषण – देश रोशन

भारत सरकार द्वारा कुपोषण को दूर करने के लिए जीवनचक्र एप्रोच अपनाकर चरणबद्ध ढंग से पोषण अभियान चलाया जा रहा है, भारत...

5 Cases where True Indology exposed Audrey Truschke

Her claims have been busted, but she continues to peddle her agenda

Daredevil of Indian Army: Para SF Major Mohit Sharma’s who became Iftikaar Bhatt to kill terrorists

Such brave souls of Bharat Mata who knows every minute of their life may become the last minute.

Mughals are NOT Indians

In this article we analyse whether Mughals were Indians or invaders who stayed because of the vast wealth and resources and also the power it gave them in the Islamic world.
Advertisements