Saturday, March 28, 2020

TOPIC

Media's selective outrage

हवा में बन्दूक लहराने वाला रामभक्त गोपाल, गोडसे. तो शाहरुख़, कसाब क्यों नहीं?

जब भी प्रधानमंत्री देशहित में कोई भी फैसला लेते हैं तो उसके बार में इतना घटिया तरीके से प्रचार होता हैं की लोगों में उस फैसले को लेकर भ्रम फ़ैल जाता हैं. इसका ताज़ा उदाहरण नागरिकता संशोधन कानून हैं

Support PM Modi to save India from ‘Wolf in sheep’s clothing’ politics

The anti-Indian elements tries to demean the great mission of Modi as religious partial-ism and anti-minority politics.

For BBC, Delhi riots victimised only Muslims, despite many Hindu victims

National and international one sided biased media coverage of the Delhi riots.

The masters of SELECTIVE outrage, who maintain pin drop silence on other issues

Dissent is a part of democracy, destruction is not.

Sonia Gandhi spreads blatantly false rumours, violates law

The whole media has let Sonia Gandhi go scot-free for her blatant lie, since a large section of it is an interested party in the conflict, wanting to spread false rumours to somehow defame the Modi Government and paint it as anti-Muslim

Journalist Faye DSouza’s video on the NMC Bill hides more than it illuminates

To educate all stakeholders regarding the provisions of the Bill, her efforts seem intended to fan discontent among people about the Bill than to actually educate people.

मोदी जी से ईर्ष्या की पत्र राजनीति

तथाकथित बुद्धिजीवी ऐसी घटनाओं की प्रतीक्षा में रहते हैं जिससे ये राष्ट्र की छवि धूमिल कर सके। ये एक एजेंडे के तहत कार्य करते हैं। नागरिकों को अपने दायित्व को समझना होगा व आवेश में कानून का उल्लंघन करने से बचना होगा।

A deliberate attempt to humiliate and shame Hindus?

Aajtak's shoddy attempt to demean the government and to defame Hindus.

‘Secular’ groups are unable to propagate their lies

According to secular journalists all intellectual talent is culminated in the minds of micro minority of secular elites you call them Khan market gang or Lutyens media.

नाकारा पुलिस, निर्लज्ज सरकार और प्रगतिशील मीडिया का मुखर मौन

क्या अलवर जिले के थानागाजी क्षेत्र में दलित महिला के लिए साथ हुई सामूहिक दुष्कर्म की घटना ने राज्य के राजनैतिक तंत्र के माथे पर हल्की भी सिकन पैदा नहीं की? अगर होती तो अशोक गहलोत चुनाव प्रचार पर जाने से पहले पीड़िता का दर्द बांटने और उसे न्याय दिलाने का आश्वासन देने अब तक थानागाजी पहुंच चुके होते।

Latest News

Corona pandemic and the future of global trade

As we battle the current situation, it is imperative that we start thinking of measures to prevent a repeat of such situations in the future.

Kabul terror attack:Last nail in the coffin of anti-CAA protests?

The barbaric attack comes barely two and a half months after the vandalisation of Gurdwara Nankana Sahib, the birthplace of Guru Nanak Dev, by a violent mob in Pakistan.

क्या कोरोना का फैलना एक संयोग है या फिर एक प्रयोग?

ये बात अचंभित करती है कि चीन आज दुनिया के लिए खतरा बन चुका कोरोना वायरस को सुरक्षा के लिए ख़तरा नही मान रहा है। जबकि 2014 में इबोला वायरस को संयुक्त राष्ट्र परिषद ने ख़तरा मानते हुए रेजॉलूशन भी पास किया था। 

The truth unsaid

There are story writers who sign any contract for writing rubbish. They may be paid in dollar or in rupee, cash or...

COVID-19, एक शांतिपूर्ण युद्ध

यह एक ऐसी जंग है जो सिर्फ घर पर बैठकर और सोशल डिस्टैन्सिंग से ही जीती जा सकती है। हमें ये 21 दिन स्वयं को व अपने परिवार को ही देने हैं तथा सरकार का पूरा सहयोग करना है।

Recently Popular

Muslim leadership in India has to step in the fight against Covid-19

If the virus manages to pester in the community due to stupid actions of a few, it will impact all of us.

Supreme court may need to tweak its order on limitation

21 days of lockdown and the Supreme Court of India

Textbooks or left propaganda material?

It seems like communist and left wing academicians have pledged to create an army of comrades.

Can 1.7 Lakh Crore Garib Kalyan Yojana Contain the Economic Impact of Wuhan Virus?

In this Health Emergency food and health services are the basic need for every one. We have to feed our vulnerable people.

क्या सच में? जी हाँ सच में।

लॉकडाउन के बीच दुकानों अनावश्यक भीड़ बढ़ाना और राशन की जमाखोरी करना संकट को ही आमंत्रित करता है। यदि हम घर पर रहकर दाल रोटी जैसे सामान्य लेकिन पौष्टिक भोजन में काम चलाएंगे तो सोशल डिस्टन्सिंग से हम इस चीन वुहान वायरस की कड़ी को खत्म कर सकते है।