Thursday, April 25, 2024

TOPIC

Mahesh Bhatt

जो भविष्य में तख्त़ और SOTY-3 को 100 करोड़ की opening दिलाएंगे, उनके लिए जल में रहकर मगरों से बैर पाल रही है...

आज के पूंजीवादी समाज में केवल सराहना कर देना मात्र उपाय नहीं है, वित्तीय तौर पर सहयोग अति आवश्यक है।अलग-अलग किस्म के विज्ञापन, प्रचार या समीक्षाओं से सम्मोहित न होकर अपने दिमाग एवं दिल का इस्तेमाल करते हुए किसी भी कला को पहचानना और उसके आधार पर ही उसे सराहना या आर्थिक सहयोग प्रदान करना ही हमारी शैली होनी चाहिए।

Striking similarities between the death of Parveen Babi and Sushant Singh Rajput: A mere co-incidence or well planned murders?

Together Rhea and Bhatt’s media statements subtly and cleverly project Sushant as some kind of a nut job like Parveen Babi, another Bhatt conjuring.

Are we as bad as Jihadis?

Entertainment industry (Anurag Kashyap, Aamir Khan, Shirish Kunder, etc) is on mission to save Indian secularism and culture, which RSS is otherwise killing, by it's maligning communal propaganda.

Latest News

Recently Popular