Monday, March 1, 2021

TOPIC

Kashmir issue

What’s the solution for Kashmir?

Kashmir issue is not something which can be resolved with peace and moreover establishing peace with Islamic countries is near to impossible. That's is why BJP is not at all interested in dialogues with Pakistan.

Referendum in Kashmir: Choice of Pakistan and China

In 1947, when Maharaja Hari Singh of Kashmir signed the Instrument of Accession, he stated that after the war is over and Jammu and...

शांत कश्मीर और चिदंबरम का 370 वाला तीर

डॉ. मनमोहन सिंह की सरकार के सबसे शक्तिशाली मंत्रियो में से एक चिदंबरम आज वही भाषा बोल रहे है जो पाकिस्तान संयुक्त राष्ट्र तथा अन्य अंतर्राष्ट्रीय मंचो पर बोलता आया है। चिदंबरम यही नहीं रुके उन्होंने अलगाववादियों को भी महत्व देने की बात कही है।

How BJP rescued Kashmir

The minority and marginalized groups got justice and the creadit for all this revolution goes to BJP led centre government who made efforts to give a shape to the sacrifice of shyma prasad mukherji to make the nation happy and strong India.

How govt saved the harvest of Kashmir

The BJP government is providing lots of schemes to raise up the farmers in Kashmir. It also charms the valley. The government must take remedial measures to support our farmers time to time to make India Atmanirbar Bharat.

Indoctrination and the families of Jihadists in Kashmir

Nowadays, Islamic Militants are the new role models for the unemployed youth in Kashmir who are being made to believe that Muslims across the world are fighting and dying for them as a service to Islam.

Kashmir: My two bits

Nehru never gave the Kashmiris a chance to express themselves through the franchise set up for them under article 370, though at all forums he kept on shouting out that the Kashmiris need to decide for themselves if they want to be a part of India or not.

The curious case of Shah Faesal

Shah Faesal, is a UPSC civil services topper and a staunch campaigner of Pakistan sponsored "Kashmiriyat" and vocal anti-Indian.

स्वतंत्र भारत में दो राष्ट्र का सिद्धांत

स्वतंत्र भारत में, कई मुस्लिम अभी भी दो राष्ट्र के सिद्धांत में उसी तरह विश्वास रखते हैं, जैसा कि जिन्ना द्वारा समझाया गया था। इसी के चलते वे अलग राष्ट्र नायकों, अलग ऐतिहासिक प्रेरणा स्रोत और अलग युद्धों में जीत का गौरव महसूस करना उन्होंने जारी रखा है जबकि ये राष्ट्रवादी गुण हैं और इन्हें किसी व्यक्तिगत मान्यताएँ, परंपराएँ और धार्मिक साहित्य के तौर पर नहीं देखा जा सकता है।

कश्मीर भाग 1: भारतवर्ष के सनातन का केंद्र बिंदु रहे कश्मीर के इस्लामीकरण की प्रक्रिया

अखंड भारत का केंद्र बिंदु रहे कश्मीर का पिछली कुछ शताब्दियों का इतिहास हिन्दुओं के रक्त से रंजित है। इस इतिहास के हर पन्ने में आपको दिखाई देंगे असंख्य हिन्दू मंदिरों के अवशेष, जलाए गए हिन्दू धर्मग्रंथों की भस्म, रोते-बिलखते हिन्दू और कश्मीर की गलियों में पड़े उनके मृत शरीर।

Latest News

Recently Popular