Tuesday, October 20, 2020

TOPIC

Indira Gandhi

How the sad demise of a Holy seer brought back the memory of Indira’s blatant abuse of power

As we pray to God to provide Moksha to the revered saint Kesavananda Bharti; we, the Indian citizens, must be thankful to him for moving the writ petition of fundamental Right in Supreme Court, just at the age of 30, under the guidance Legal Luminary Nani Palkhiwala.

“धर्मनिरपेक्ष” की अधर्मी घुसपैठ

संविधान के विधातांओ ने जिस "secular" शब्द को प्रस्तावना में ना होने के लिए सांसद में पूरी शक्ति लगायी थी उसी सांसद में तीन दशकों के बाद "secular" शब्द को प्रस्तावना में डालकर संविधान के विधातांओ का मज़ाक बनाया गया था.

वह फ़ैसला जिसने रातों रात बदल दी इंदिरा गांधी की तस्वीर; इमरजेंसी की घोषणा में राज नारायण बनाम इंदिरा गांधी केस का बड़ा हाथ

24 जून को और 25 जून 1975 को देशभर में इंदिरा गांधी ने आपातकाल की घोषणा कर दी। देश के इतिहास में यह अबतक का सबसे कठोर निर्णयों में सबसे ऊपर था।

आपातकाल की कलमुंही बातें…

आपने इतिहास की किताबों में लार्ड लिटन के तुगलकी फरमान वर्नाक्यूलर प्रेस एक्ट के बारे में सुना होगा. उस एक्ट के बाद पहली बार ऐसा अकस्मात आदेश आया जब अखबारों को कुछ भी छापने से पहले अनुमति लेनी थी. कई अखबारों ने इस शक्ति के सम्मुख घुटने टेकने बेहतर, बंद होना सही समझा.

June, 1975: An Important Chapter of our history

A large number of Indians, specially our young generation don’t even know anything about the emergency because it was never included in our history books.

Is it really Rahul Gandhi who’s ruining Congress?

Along with other ideological limitations, he may be a factor that is repelling voters for now. But if the economy continues to slide, voters may not be averse to relook at Rahul in 2024.

The one difference between the Congress of today and that of before 2014

For the sake of the future generations, for the sake of our children, please read more books about how Congress had been ruling the country and be aware of the dangers.

Influence of KGB in independent India

KGB has long lasting influence on India; here is how

The rise of a hoax: Secularism

Dharmic pluralism rather than secularism is India’s way forward. It is only possible when we as a country come together and accept the fact that we indeed are a Hindu Nation.

Your Karma awaits you

Indira Gandhi and Rajiv Gandhi were Martyrs; says who? Was it their Karma? Did the people who like to call them martyrs take out some time to see if any of their actions caused their unfortunate demise?

Latest News

शांत कश्मीर और चिदंबरम का 370 वाला तीर

डॉ. मनमोहन सिंह की सरकार के सबसे शक्तिशाली मंत्रियो में से एक चिदंबरम आज वही भाषा बोल रहे है जो पाकिस्तान संयुक्त राष्ट्र तथा अन्य अंतर्राष्ट्रीय मंचो पर बोलता आया है। चिदंबरम यही नहीं रुके उन्होंने अलगाववादियों को भी महत्व देने की बात कही है।

मिले न मिले हम- स्टारिंग चिराग पासवान

आज के परिपेक्ष्य में बिहार का चुनाव कई मायनो में अलग है। मुख्यमंत्री और उप मुख्यमंत्री पारम्परिक राजनीती वाली रणनीति का अनुसरण कर रहे है तो वही युवा चिराग और तेजस्वी विरासती जनाधार को नए भविष्य का सपना दिखने का प्रयास कर रहे है।

How BJP can win seats in Tamil Nadu and Kerala

It is time for BJP to eye on Tamil Nadu and Kerala. In Lok Sabha election 2024 BJP will win ±15 seats in TN and ±3 seats in Kerala.

Brace for ad Jihad

Delusionary fairy tale

Why this hullabaloo about shifting Bollywood?

Let the new film city emerge as the genuine centre for producing high quality films that are genuinely Indian and be helpful in building a strong value-based society.

Recently Popular

Jallikattu – the popular sentiment & ‘The Kiss of Judas Bull’ incident

A contrarian view on the issue being hotly debated.

सामाजिक भेदभाव: कारण और निवारण

भारत में व्याप्त सामाजिक असामानता केवल एक वर्ग विशेष के साथ जिसे कि दलित कहा जाता है के साथ ही व्यापक रूप से प्रभावी है परंतु आर्थिक असमानता को केवल दलितों में ही व्याप्त नहीं माना जा सकता।

How I was saved from Love Jihad

A personal experience of a liberal urban woman and her close brush with Islam.

Twitter wrongfully reports Jammu & Kashmir’s location again

In February of this year Twitter was accused of getting Jammu & Kashmir’s location wrong.

हिंदू धर्म की भावनाओं को ठेस पहुंचाना कहां तक उचित है??

विज्ञापन में दिखाए गए पात्रों के धर्म एक दूसरे से बदल दिए जाएं तो क्या देश में अभी शांति रहती। क्या तनिष्क के शोरूम सुरक्षित रहते। क्या लिबरल तब भी अभिभ्यक्ती की स्वतन्त्रता की बात करते।