Saturday, September 18, 2021

TOPIC

Indian Caste system wrongly interpreted

Caste and Varna: Wrongly interpreted, communicated & practiced to demean Hinduism

Social dehumanization is not the core of the Varna system as the Varna system comes with the concept of second birth that means if a person is born with a particular Varna, adapt or accumulate the knowledge/skill of some other Varna then they can change their Varna.

मनुस्मृति और जाति प्रथा! सत्य क्या है? (part-2)

जन्म आधारित जातिव्यवस्था महर्षि मनु द्वारा प्रतिपादित समाजव्यवस्था का कहीं से भी हिस्सा नहीं है. जो जन्मना ब्राह्मण अपने लिए दण्डव्यवस्था में छूट या विशेष सहूलियत चाहते हैं – वे मनु, वेद और सम्पूर्ण मानवता के घोर विरोधी हैं और महर्षि मनु के अनुसार, ऐसे समाज कंटक अत्यंत कड़े दण्ड के लायक हैं

मनुस्मृति और जाति प्रथा! सत्य क्या है?

मनुस्मृति उस काल की है जब जन्मना जाति व्यवस्था के विचार का भी कोई अस्तित्व नहीं था. अत: मनुस्मृति जन्मना समाज व्यवस्था का कहीं भी समर्थन नहीं करती.

जाति व्यवस्था वर्ण व्यवस्था एवं प्रचलित वैचारिक विष

जाति व्यवस्था पर हमारे समाज में अत्यधिक भ्रम उत्पन्न किया गया है। इतने वर्षों के घोषित अघोषित दासता काल में हिन्दू सभ्यता के विरुद्ध अनेक षड्यंत्र किये गए हैं। जैसे वर्तमान में सर्वाधिक प्रचलित षड्यंत्र है caste system।

“I don’t believe in caste”

Caste- the original phrase carries as much weight as claiming to disbelieve in capitalism. The question of belief does not arise at all. As the duality of rich and poor exists, so does caste. And it will stay.

Caste education: Decoding caste system

There are numerous scripts which in detail explain how the Varna of a person should be determined based on the profession & nature of his living not based on birth.

Here is a solution to the caste system, and it’s not what you think

An attempt to trigger a debate and discussion. What should be done to make a caste-less society?

Philosophy of Dr. Ambedkar | Dr. B. R. ambedkar biography

He accepts matter in nature as real. In this way, he was closer to Materialism but still, he says no to Marxism. He maintained that religion is necessary for man. He was a socialist, he held that the individual is an end in himself.

वर्ण व्यवस्था के संदर्भ में फैली भ्रांतियाँ

वर्ण शब्द का अर्थ कतई अंग्रेजी के कास्ट (caste) के समान नहीं है, क्योंकि यह जन्म आधारित नहीं वरन् कर्म आधारित है। और इसके अलावा इसमें चुनाव करने की स्वतंत्रता है।

Latest News

Recently Popular