Thursday, June 13, 2024

TOPIC

Freedom of speech is the right of only Left

Self-styled custodian of freedom needs to look within

French media watchdog Reporters Sans Frontieres (RSF) aka Reporters Without Borders recently named India's Prime Minister Narendra Modi as a ‘predator of press freedom’,...

Siddharth, India hasn’t changed. You have.

There is so much dishonesty in Siddharth claiming that he never used to be trolled but he has been viciously abused only since 2014. Sid may genuinely be deluding himself that the climate was awesome back then. But it barely was.

यह चुप बैठने का वक्त नहीं है, उठो और अपनी अस्मिता के लिए स्वयं लड़ो

अर्नब के साथ जो हुआ वह इन सात दशकों में न जाने कितनी बार हुआ है। सवाल यह नहीं कि कौन किस पार्टी का है, सवाल यह है कि यहाँ इस देश में पत्रकार, सब पत्रकारों जैसी पत्रकारिता क्यों नहीं कर सकता।

कांग्रेस से सीखे हुनर: शक्ति और सत्ता का दुरुपयोग कैसे किया जाए

कहाँ हैं अभिव्यक्ति की आजादी के ध्वजवाहक? कहाँ हैं असहिष्णुता के बुद्धिजीवी? कहाँ हैं वो पत्रकार जो रोज इमरजेंसी-इमरजेंसी चिल्लाते रहते हैं?

Is ideological similarity an unmentioned clause of friendship?

The only clauses in the contract of friendship were loyalty and unconditional love then how can religion or politics be the cause of breaking or ruining it.

Right to mobility v. right to protest: SC verdict on Shaheen Bagh

The court’s verdict strengthens that right to protest is constitutional right but it can be restricted if it harms the rights of other people as it happened in Shaheen Bagh case as the protestors blocked a stretch of the road for several months which caused a lot of problem to commuters

हिंदू धर्म की भावनाओं को ठेस पहुंचाना कहां तक उचित है??

विज्ञापन में दिखाए गए पात्रों के धर्म एक दूसरे से बदल दिए जाएं तो क्या देश में अभी शांति रहती। क्या तनिष्क के शोरूम सुरक्षित रहते। क्या लिबरल तब भी अभिभ्यक्ती की स्वतन्त्रता की बात करते।

The ossification of free speech in India

The advent of social media has ensured the prevalence of popular thought. The contention of some to the effect that it has challenged the elitism of the media having been granted, it has also ostensibly ensured an angrier populace.

Bloomsbury: A saga of entitlement

The Left which associates itself with ideas like weakness, progressivism, identity politics, etc. is following nothing but an updated version of marxism.

अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता की आड़ में चलता हिन्दू धर्म का अपमान

जिस हिन्दू धर्म ने इस राष्ट्र को एक धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र बनाया, सर्वधर्म समावृत्ति की शिक्षा दी उसी धर्म के सम्मान की अव्हेलना कर देना इस देश में कहाँ तक उचित है? क्या समीक्षा एवं अपमान के बीच कोई विभाजन की रेखा नहीं बची अथवा कोई रेखा खींचना नहीं चाहता।

Latest News

Recently Popular