Tuesday, October 19, 2021

TOPIC

Brave Hindu Kings

The Hindus must stop inventing fiction, and celebrate real heroes

If it is about celebrating women heroines, then there were plenty actual women warriors like Rani Jhansi, Naikidevi Chandel, Jhalkara bai, Rani Karnavati Panwar Garhwali. Therefore why invent fictional figures, when we have real ones?

Defeats of Delhi Sultan Ibrahim Lodhi at the hands of Hindus

Under Rana Sanga even Agra was under threat of being captured. The rising strength of Sanga had disturbed the peace of Sultans.

राष्ट्रीय-जीवन में छत्रपति शिवाजी का ऐतिहासिक अवदान

23 जून, हिंदू साम्राज्य-दिनोत्सव (शिवाजी का राज्याभिषेक) पर

बाजीराव पेशवा- एक अजेय हिन्दू योध्दा जिसने सम्पूर्ण भारत को मुगलों के शासन से मुक्त करा दिया था

आज हम बात करेंगे बाजीराव पेशवा की, जिन्होनें अपने जीवनकाल में लड़े गये सभी युद्धों में जीत हासिल की और लगभग, सम्पूर्ण भारत में कब्जा किये हुए मुगलों को खदेड़कर महाराज शिवाजी के हिन्दवी स्वराज का सपना पूरा किया।

शिवाजी और उनका लोकाभिमुख शासन-तंत्र

शिवाजी महाराज की शासन-व्यवस्था लोकाभिमुख थी। वे एक निरंकुश शासक की बजाय लोककल्याणकारी शासक के रूप में हमारे सामने आते हैं। ए

पराजय नहीं, गौरवपूर्ण इतिहास है हमारा…

महाराणा का जीवन वर्तमान का निकष है, उनका व्यक्तित्व स्वयं के मूल्यांकन-विश्लेषण का दर्पण है। क्या हम अपने गौरव, अपनी धरोहर, अपने अतीत को सहेज-सँभालकर रख पाए? क्या हम अपने महापुरुषों, उनके द्वारा स्थापित मानबिन्दुओं, जीवन-मूल्यों की रक्षा कर सके?

Ahom Dynasty – A kingdom- with divinity

Legendary Ahom wrote an inexpungible stories of glorious 600 years and 41 king. Modern left historians however deceitfully concealed the valour and might of this dynasty from history books.

Suppressing Maratha history in school textbooks

Secularism has never inspired anyone to do anything, except indulging in laziness. A nation without history is like a man without soul. We urgently need to recast our history books by focusing on a few critical points.

गुप्त काल को स्वर्ण युग क्यों कहा जाता है

एक सफल शासन की नींव समुद्रगप्त ने अपने शासनकाल में ही रख दी थी इसीलिए गुप्त सम्राटों का शासन अत्यधिक सफल रहा। साम्राज्य की दृढ़ता शांति और नागरिकों की उन्नति इसके प्रमाण थे।

अपने सामर्थ्य को पहचानो

सनातन की सभ्यता, कला, ज्ञान,सामर्थ्य आदि के कारण भारत विश्व गुरु था किन्तु हिन्दुओ के अहंकार, जातिवाद, लालच एंव कायरता के चलते ना केवल हजार साल ग़ुलाम रहा अपितु पुनः अब विनाश की और अग्रसर हो रहा है।

Latest News

Recently Popular