Saturday, June 15, 2024

TOPIC

tolerance and Hinduism

How Bharat achieved resilience through silence: A tale of inner strength

Bharat's journey towards resilience through silence is a testament to the profound impact of inner stillness and contemplation.

What do I say in this chaos?

The rosy ideas of tolerance, secularism, harmony, unity need to be protected. There is a logical fallacy here. These rosy ideas were meant to create an ideal society but they have failed to do so. Why did they fail to do so?

3 reasons why I am not a secular anymore

Why is it that we wake up one day and find ourselves in a Dharamsankat whether to choose the chalta hai attitude and be accepted or support the truth and ekla Chalo re?

विविधता या विभाजन

आज देश को बोस के विचारों को और गम्भीरता से पढ़ने और समझने की ज़रूरत है, भगत सिंह के सारे लेखों को पढ़ने समझने की ज़रूरत है, ज़रूरत है कि सावरकर और अम्बेडकर के विचारों को भी खुले दिमाग़ से समझा जाए और विभाजनकारी सोच को पूरी तरह ख़त्म किया जाए।

हम हिन्दू व सहिष्णुता

आदिकाल से भारत भूमि ने हमेशा संकट से घिरे हुओं को स्वयं पर घाव झेल कर भी शरण दी। किन्तु आज इसके मूल धर्म व संस्कृति पर ही असहिष्णुता का मिथ्या आरोप।

Latest News

Recently Popular