Wednesday, December 7, 2022

TOPIC

Social Media

आखिर सोशल मीडिया पर क्यों सख्त हो रही है सरकार?

आखिरकार भारत सरकार को सोशल मीडिया कंपनियों की मनमानी के चलते आगे आना पड़ा और सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के अपने यूज़र्स की शिकायत अनसुना करने पर केंद्र सरकार की गठित ‘अपीलिय समिति’ तक जाने का अधिकार सुनिश्चित करना पड़ा.

Social Media and Politics: People no longer follow leaders with their hands folded and eyes blindfolded

Gone are the days when people used to follow the leaders with their hands folded and eyes blindfolded - social media has changed the game

Social media is ruining everyone’s life, here’s how

It comes as no surprise that 76% of internet users have a social media account of some kind given that the majority of people now have access to the internet.

Genderism in a ring of fire

Looking at the future, one thing above all we must accept that biology has never and will never support the variation of sexes nor reproduction is successfully possible between homogeneous sexes. It’s the social construct that supports the existence of multiple genders.

Frustrated by big tech’s anti-Hindu bias? Now’s your chance to do something about it!

Kanhaiyalal is beheaded by Islamists because alleged fact-checkers gave their verdict on Social Media before Court could. And Social Media allowed that blasphemy verdict to stay online. Today, we have a chance to stop this extra-judicial anti-Hindu hatred for good.

राष्ट्रवादी शंखनाद के द्वारा चलाए जा रहें स्पेस से विधर्मियों को डर क्यों?

टीम शंखनाद ट्विटर व अन्य सोशल मीडिया के माध्यम से मुद्दों को उठाने का प्रयास भी करता है ताकि किसी के साथ अन्याय न हो। अधिक से अधिक लोग जुड़े और राष्ट्रहित में अपना योगदान दे।

पत्रकारिता; कल, आज और कल

पत्रकारिता मर नहीं रही है वह अपना स्वरूप बदल रही है अब वह दूसरे आयाम में जा रही है। कल की पत्रकारिता बीत चुकी है, आज की पत्रकारिता चल रही है और विकसित हो रही है और कल की पत्रकारिता अभी बाकी है।

Rally Mukt Election: A delusion or a future reality?

h of digital media is rising exponentially, there is still a significant population outside its coverage, especially in backward areas of states like Uttar Pradesh.

विपक्ष के लिए सरदर्द बनी भाजपा की सशक्त सोशल मीडिया पर लोकप्रियता

कांग्रेस, सपा, बसपा व आम आदमी पार्टी दूर दूर तक भाजपा से सोशल मीडिया के ट्विटर, फेसबुक और इंस्टाग्राम जैसे प्रभावशाली प्लेटफॉर्म से कोई मुकाबला नही कर सकते। यही वजह है कि चुनाव आयोग के घोषणा के बाद ही अखिलेश यादव ने हार मान ली कि डिजिटल प्लेटफॉर्म पर भाजपा सबसे आगे है।

Indian Supreme Court and social media

Social media is here to stay. No government can stop it. Any attempt to stop it, the people will find ways to get around it.

Latest News

Recently Popular