Thursday, December 8, 2022

TOPIC

ravish

आरोग्य सेतू एप पर रवीश की प्राइम टाइम (व्यंग्य)

जहां देश कोरोना के संकट से जूझ रहा था, मजदूर भूख से तड़प रहे थे, दिहाड़ी मजदूर दूसरे प्रदेशों में फंसे होने के कारण आत्महत्या करने को विवश थे और प्रधानमंत्री मंत्री लोगो को अपने मोबाइल में app install करने को विवश कर रहे थे। क्या यही लोकतंत्र है..??

भारत में प्रमाणपत्रवाद (सर्टीफिकेशनलिज़्म) का सफर

भारत में आप को भक्त, संघी, चड्डी, अन सेक्युलर के प्रमाणपत्र राह चलते मिल जाएँगे. सिर्फ़ आपको आपके स्पष्ट विचार रखने हैं।

Latest News

Recently Popular