Sunday, December 4, 2022

TOPIC

Obsession for English Language

Medium of instruction in Indian schools

Is English truly so superior that it should supplant local languages all across the world? Lets examine the reasons for and against English as a medium of education in greater depth.

जातिवाद का नया रूप

१. सामाजिक तिरस्कार २. न्याय ना मिलना ३. शिक्षा ना मिलना ४. नौकरी ना मिलना ५. बैंक इत्यादि सामाजिक सुविधाओं का लाभ ना मिलना। ये सभी दोष नए रूप में पनप रहे जातिवाद अधिक प्रचण्ड मात्रा में है। और इस जातिवाद का नाम है , अंग्रेजी भाषा का हर क्षेत्र में प्रयोग।

” स्नेकोफ़ोबिया”

भारतीयों को अहिंसा के नाम पर कायरता सिखाई गई। धर्मनिरपेक्षता के नाम पर अधर्मी बनाया गया। सहनशीलता के नाम पर गुलामी शिक्षित हुई।

हिंदी की व्यथा..

हिंदी का खो गया अभिमान, भारत में अंग्रेजी है अब, पढ़े-लिखों की पहचान l बोलकर अंग्रेजी, होता है बड़ा गुमान, हिंदुस्तान में हिंदी, खो चुकी सम्मान l

Latest News

Recently Popular