Thursday, April 22, 2021

TOPIC

IPC 124A

Sedition law: aye, nay

Given the legal opinion and the views of the government in favour of the law, it is unlikely that Section 124A will be scrapped soon. However, the section should not be misused as a tool to curb free speech.

क्या होता है राजद्रोह? क्या कहता है सर्वोच्च न्यायलय?: 124A (IPC)

९ फरवरी २०१६ को एक आतंकवादी की मौत पर मातम मानते हुए जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय में " भारत तेरे टुकड़े होंगे ", "भारत की बर्बादी" "पाकिस्तान जिंदाबाद" के जो नारे लगाए जा रहे थे वो "राजद्रोह" की श्रेणी में आते हैं या नहीं?

Latest News

Recently Popular