Tuesday, July 23, 2024

TOPIC

Bhagwad Gita

भगवद गीता: कठिन समय की आवश्यकता

हम भारतीय सामान्य रूप में, आमतौर पर हमारे प्राचीन ज्ञान को अधिक महत्व नहीं देते हैं, जो पश्चिमी देशों और कई अन्य देशों में गहराई से अंतर्दृष्टि प्राप्त करने और इस महान ज्ञान को ग्रहण करने के लिए प्रयास करते हैं, जो हमें हमारे प्राचीन ऋषियों ने आसानी से विरासत में दिया है।

रण आमंत्रण

जब आ पड़ी थी मान पे, तब युध्द के मैदान में, खुद सारथी बन आ खड़े हुए, श्री कृष्ण कुरुओ के सामने।

श्रीमद भगवद गीता सैनिकविषादयोग एवं सांख्ययोग

रणभूमि के मध्य में खड़े अर्जुन की तरह हम सैनिक भी इतने वर्षों से अपने भाई इन अफसरान के लगातार शोषण, बैटमेन जैसी कुप्रथा, अलग रसोईघर अलग संडास और विरोध जताने पर कोर्टमार्शल ऐसे अनेको ना ना प्रकार के पापाचार विरुद्ध कुछ कहने से अपने आप को रोक रहे थे.

Why does our psychology seek a purpose?

We are predisposed to finding a purpose. Even if some find purpose in opposing living a purposeful life

How Rahul Gandhi exposed his colonized mindset over Gita reading

Rahul Gandhi should be ashamed to have not read Indian scriptures so far.

Latest News

Recently Popular