Thursday, April 18, 2024

TOPIC

बंदरगाह

नशा ही नशा है: लिब्रांडुओं के लिए हाय हाय मोदी के साथ अड़ानी भी मिल गया

क्योंकि वो बंदरगाह अड़ानी के स्वामित्व का है। इसलिए अफ़ीम, चरस जो भी हो उसका मालिक भी वही है और अड़ानी और मोदी दोनो गुजरात के है। तो मोदी भी उसमें हिस्सेदार हैं, और दोनो मिलकर नशे का कारोबार कर रहे हैं।

Latest News

Recently Popular