Tuesday, October 20, 2020

Politics

What Ashok Gehlot’s got which Sachin Pilot has not?

Sachin Pilot has what Rahul Gandhi has - Legacy and age on his side! And also what Rahul lacks - Merit! More than anybody, He is a threat to the Gandhi Dynasty.

Politicians-Criminals-Bureaucratic nexus: Saga of crime – punishment, political administration of UP

criminal is never dependent on political shade but interdependent on the three-round circles: politicians-criminals-bureaucratic nexus.

गहलोत vs पायलट: राजस्थान में सियासी घमासान, देखे आंकड़ों का खेल

बागी पार्टी नेता पर चाबुक का वार करते हुए, कांग्रेस ने मंगलवार को पायलट को राजस्थान के उप मुख्यमंत्री और पार्टी की राज्य इकाई के प्रमुख के पद से बर्खास्त कर दिया। पार्टी ने उनके वफादारों विश्वेंद्र सिंह और रमेश मीणा को भी राज्य मंत्रिमंडल से हटा दिया।

Some men just want to watch the world burn: Instigators Motto

When some people just try to instigate people against each other, they reveal their true colours that they are not for anyone but are against everyone but themselves. Such people make me remember the quote Some men just want to watch the world burn.

वह फ़ैसला जिसने रातों रात बदल दी इंदिरा गांधी की तस्वीर; इमरजेंसी की घोषणा में राज नारायण बनाम इंदिरा गांधी केस का बड़ा हाथ

24 जून को और 25 जून 1975 को देशभर में इंदिरा गांधी ने आपातकाल की घोषणा कर दी। देश के इतिहास में यह अबतक का सबसे कठोर निर्णयों में सबसे ऊपर था।

सत्ता की भूखी कांग्रेस भारत विरोधी हो जाए तो आश्चर्य न किया जाए; कांग्रेस की कुंठा का विश्लेषण

2014 के बाद से कांग्रेस सत्ता से दूर हो जाती है और यह ध्यान देने योग्य विषय है कि सत्ता से दूर रहने वाली कांग्रेस, सत्ता में रहने वाली कांग्रेस से अधिक घातक हो जाती है।

चीन और पाकिस्तान का भारत पर सर्जिकल स्ट्राइक: एक बार नहीं कई बार

जब चीन के सामानों के बहिष्कार की लहर चल रही थी तो अपने ही देश के कुछ लोग चीन की वफादारी में लगे थें। हाँ ये बात अलग है कि अब वैसे लोग जेल जा रहे है जो अच्छी बात है।

वामपंथियों का दोहरा चरित्र और अमेरिकी हिंसा

एंटीका फासिस्ट सरकारों के खिलाफ शांतिपूर्वक विरोध प्रदर्शन करता है और हास्यास्पद बात यह है की एंटीफा एक रेडिकल वामपंथी समूह है। इस बात से यह तो अंदाजा हो ही जाता है की यह कितना शांतिपूर्वक प्रदर्शन करता है। जहां-जहां पर वामपंथी शांतिपूर्वक प्रदर्शन का ढोंग करते हैं वहां पर हिंसा अपने चरम स्थिति पर होती है।

तीन ऐसे लोग जिन्होंने बताया कि पराजय अंत नहीं अपितु आरम्भ है: पढ़िए इन तीन राजनैतिक योद्धाओं की कहानी

ये तीन लोग हैं केंद्रीय मंत्री श्रीमती स्मृति ईरानी, दिल्ली भाजपा के युवा एवं ऊर्जावान नेता एवं समाजसेवी कपिल मिश्रा एवं तजिंदर पाल सिंह बग्गा। इन तीनों की कहानी बड़ी ही रोचक एवं प्रेरणादायी है।

Unprecedented Covid-19 health crisis: The trial and tribulations of the Global Economy

The policymakers have to play a significant part in relaxing the restrictions in such a manner that at the one end, steepness of crisis is brought to baseline while on the other end; economic functions are alleviated with proper credit security by the government.

Latest News

शांत कश्मीर और चिदंबरम का 370 वाला तीर

डॉ. मनमोहन सिंह की सरकार के सबसे शक्तिशाली मंत्रियो में से एक चिदंबरम आज वही भाषा बोल रहे है जो पाकिस्तान संयुक्त राष्ट्र तथा अन्य अंतर्राष्ट्रीय मंचो पर बोलता आया है। चिदंबरम यही नहीं रुके उन्होंने अलगाववादियों को भी महत्व देने की बात कही है।

मिले न मिले हम- स्टारिंग चिराग पासवान

आज के परिपेक्ष्य में बिहार का चुनाव कई मायनो में अलग है। मुख्यमंत्री और उप मुख्यमंत्री पारम्परिक राजनीती वाली रणनीति का अनुसरण कर रहे है तो वही युवा चिराग और तेजस्वी विरासती जनाधार को नए भविष्य का सपना दिखने का प्रयास कर रहे है।

How BJP can win seats in Tamil Nadu and Kerala

It is time for BJP to eye on Tamil Nadu and Kerala. In Lok Sabha election 2024 BJP will win ±15 seats in TN and ±3 seats in Kerala.

Brace for ad Jihad

Delusionary fairy tale

Why this hullabaloo about shifting Bollywood?

Let the new film city emerge as the genuine centre for producing high quality films that are genuinely Indian and be helpful in building a strong value-based society.

Recently Popular

Jallikattu – the popular sentiment & ‘The Kiss of Judas Bull’ incident

A contrarian view on the issue being hotly debated.

सामाजिक भेदभाव: कारण और निवारण

भारत में व्याप्त सामाजिक असामानता केवल एक वर्ग विशेष के साथ जिसे कि दलित कहा जाता है के साथ ही व्यापक रूप से प्रभावी है परंतु आर्थिक असमानता को केवल दलितों में ही व्याप्त नहीं माना जा सकता।

How I was saved from Love Jihad

A personal experience of a liberal urban woman and her close brush with Islam.

Twitter wrongfully reports Jammu & Kashmir’s location again

In February of this year Twitter was accused of getting Jammu & Kashmir’s location wrong.

हिंदू धर्म की भावनाओं को ठेस पहुंचाना कहां तक उचित है??

विज्ञापन में दिखाए गए पात्रों के धर्म एक दूसरे से बदल दिए जाएं तो क्या देश में अभी शांति रहती। क्या तनिष्क के शोरूम सुरक्षित रहते। क्या लिबरल तब भी अभिभ्यक्ती की स्वतन्त्रता की बात करते।