Friday, September 30, 2022
1 Articles by

Chandan Anand

PhD Student at Central University of Himachal Pradesh.

यह कन्हैयालाल नहीं भारत के विचार का कत्ल है

लोकतंत्र और स्वतंत्रता ही तब तक है जब तक भारत का विचार है और भारतीयता का मूल ही संवाद की परंपरा और एकं सद् विपदा बहुदा वदंति का विचार है। अपनी बात और मार्ग को मनवाने के लिए दूसरों का कत्ल करने वाले भारतीयता के शत्रु हैं।

Latest News

Recently Popular