Saturday, September 25, 2021
3 Articles by

ashish0831

सवाल राष्ट्रीयकरण या निजीकरण का नहीं है

बैंकिंग ग्राहक पे एहसान नहीं सेवा है.

किसान होना एक व्यवसाय है, समाजसेवा नहीं

हमारे देश में जिसे भगवान का दर्जा दे दो वही सिर पर से मूतने लगता है, पहले डॉक्टर, न्यायाधीश को भगवान/माईबाप बोलते थे, आज के समय में सबसे ज्यादा भ्रष्टाचार इन्ही क्षेत्रों में है. #किसान अन्नदाता है इसलिए उसका धन्यवाद करना चाहिए.

इस देश में चुप्पी तो भीष्म की भी माफ़ नहीं करी गयी थी

अर्णव गोस्वामी पे चुप रहने वालों याद रखना इस देश में चुप्पी तो भीष्म की भी माफ़ नहीं करी गयी थी

Latest News

Recently Popular