Wednesday, April 21, 2021
3 Articles by

ajjju

“माल है क्या?” देश में माल की कमी से जूझता ड्रगवुड, प्रधानमंत्री क्यों है खामोश

2014 से पहले मुझे बराबर मेरा माल मिलता था लेकिन जब से आपकी सरकार आई है तब से धीमे धीमे माल की कमी से मुझे जूझना पड़ रहा है। साल 2017 तो मेरे लिए इतना खराब रहा कि नशा पाने के लिए मात्र फोन से ही काम चलाना पड़ता है।

#FakeFeminism:- लड़के के भेष में निकली लड़की

इंसान के बाहरी रूप को देखकर कई महा अनुभवों को गलती हो जाती है, कई बार तो इस गलती का स्तर इतना ऊंचा होता है कि लिबरल और वामपंथी विचारधारा के लोग इस पर लीपापोती करने को तैयार रहते हैं।

Tiktok:- धूमिल करता एक जहरीला एप्पलीकेशन

टिकटोक का इस्तेमाल लिबरल के दिमाग को प्रोमोट करने के लिए होना शुरू हो गया था। युवा और युवती एक साथ वीडियो में अश्लीलता का नंगा नाच करते। हद तो तब हो गई जब कोरोना वायरस को 'अल्लाह की NRC' नियुक्त कर दिया गया।

Latest News

Recently Popular