Friday, July 19, 2024

TOPIC

Suvendu Adhikari defeats Mamata Banerjee in Nandigram

Violence in West Bengal: An act of fascism

Here are the horrific events that that took place in West Bengal post election results.

Electoral quagmire for CM Mamata

If severity of pandemic continues unabated and if the third wave arrives as predicted, then election commission will not be able to hold bye-election in West Bengal and CM Banerjee will have to step down as CM.

Quick to blame the PM for COVID, desperation ever so high for the By Elections.

Amidst the newly found success in the Assembly Elections, for the Bengal Chief Minister, Mamata Banerjee, threat of her possible resignation on November 05, still remains a factor to worry about.

बंगाल चुनाव: 213:77 के अनुपात का अर्थ क्या? भा.ज.पा के लिए आशा की किरण या निराशा की वजह

“बंगाल में, भाजपा का 2016 में, 3 सीटों से बढ़ कर 2021 में, 77 सीटों पर आना, निश्चित ही सामान्य बात नहीं है, जहां 2016 के विधानसभा चुनावों में भाजपा का मत प्रतिशत 10% था, वहीं 2021 में, 38.1% हो गया है, हालांकि 2019 के लोक सभा चुनवों से ये, 2.2 प्रतिशत की घटत है, पर भविष्य में ये कौन सा मोड़ लेता हैं, यह देखना रुचिकर होगा, भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस व वाम दलों के शून्य पे सिमट जाने से, वर्त्तमान में, बंगाल के राजनीति का द्विध्रुवीकरण भी कई राजनैतिक आसंकाओ के उत्पत्ति का कारण है”।।

CM Mamta Banejee meets her match; Suvendu Adhikari becomes the Leader Of Opposition in West-Bengal Vidhan Sabha

It is pertinent to note that with 77 seats, BJP emerges as a second largest party in the West Bengal & would play a role of Opposition in the Legislative Assembly.

बंगाल में भाजपा की नैतिक जीत

अगर भाजपा 3 सीट से 76 सीट पर पहुँचती है, तो क्या उसकी नैतिक जीत नहीं कही जा सकती है? क्या मोदी शाह की जोड़ी को सफल नहीं कहा जा सकता है।

Latest News

Recently Popular