Friday, October 7, 2022

TOPIC

Sharia above constitution

Mahsa Amini, Hijab, India and impossibility of Islam

Whatever Jilebi-argument an Islamic apologist can give, the inherent problem of Islam is obvious like daylight. Either one is an exclusive, violent and intolerant Momin or a Munafiq/Mushrik/Kafir.

Islam, secular democracy and India

A minority community of Muslims can live in a non-Muslim majority country. Muslims there may follow the rules and laws made by the non-Muslims government there. But they can’t accept the rules and laws of Kafir from the bottom of their heart.

Is Sharia really Allah’s law?

Let us examine Sharia critically to understand its genesis and divine sanctity.

शांतिप्रियों की भीड़ आ रही आपके घर के नजदीक

वो अपनी इच्छानुसार बेंगलुरु, पूर्णिया, मालदा में भीड़ जुटाते हैं, मजहबी नारे लगाते हैं और अपने धर्म पर टिप्पणी करने वालों के खिलाफ कार्यवाही करने के लिए आगजनी, दंगे करते हैं।

The Uniform Civil Code debate

Uniformity across all the religion is what UCC provides, and it is mandatory!

The rotten heads of Muslim society

The reason why Muslims live in groups today is because of the isolation of this society. Gradually, as they became isolated from society, they confined themselves to a certain boundary.

कमरे में हाथी है, क्या आपको दिख रहा है?

भारत का ही मुस्लिम क्यूँ देश के क़ानून, देश की आम जनता से अलग-थलग रहना चाहता है?

भारतीय “समुदाय विशेष” के लोग भारत या किसी भी देश के संविधान को मानने में असमर्थ क्यों सिद्ध होते हैं?

धर्म गलत करने को नहीं बोला लेकिन कुछ लोगों ने अपने फायदे या किसी उद्देश्य विशेष की पूर्ति के लिए द्वेष भावना पाली और अपने प्रभाव का प्रयोग करते हुए उसे फैलाया।

Latest News

Recently Popular