Wednesday, April 24, 2024

TOPIC

Pranab Mukherjee death

ऐसे थे हमारे प्रणव दा

यह किस्सा राजनीतिक जीवन में कितना प्रेरणादायक है कि किस तरह अपने सिद्धांतों से समझौता किये बिना अपने मित्र धर्म का पालन किया जा सकता है और समाजिक जीवन में किस तरह से समाज के उत्थान का कार्य हम कर सकते हैं अपने पद की मर्यादा का ध्यान रखते हुए।

Latest News

Recently Popular