Monday, March 1, 2021

TOPIC

female victim card

Feminism movement- helping or hurting Bharatiya women?

Articles are written, conferences are organised, special programs and advertisements are on television and there are celebrations on women’s day all over the world, Sounds cool, doesn’t it?

Womanhood: An Indian perspective

The clear heart and aspiring mind of a modern woman makes the society an elated space and to be breathing the same air is an honour and privilege and calls for life line celebrating period.

रचनाधर्मियों को गर्भस्थ बेटी का उत्तर

जो तुम्हें अग्नि परीक्षा देती असहाय सीता दिखती है, वो मुझे प्रबल आत्मविश्वास की धनी वो योद्धा दिखाई देती है जिसने रावण के आत्मविश्वास को छलनी कर इस धरा को रावण से मुक्त कराया.

यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते: यहाँ ईश्वर को भी सर्वप्रथम ‘त्वमेव माता’ का सम्बोधन दिया जाता है

समानता का नारा देकर नारी को पुरुष के स्तर पर लाने का प्रयास इस देश में वैसे ही है जैसे बड़ी लकीर को मिटाकर छोटी के बराबर कर देना। भारत में जहाँ नारी को स्वयंवर तक की स्वतंत्रता रही हो वहाँ स्वतंत्रता, समानता का नारा देना उसके महत्त्व को कमतर करने का ही दुस्साहस कहा जा सकता है।

#MeToo or Monkey’s Paw

It is for the intelligent women to rise and caution women against using #MeToo spell as a vendetta tool and a mean to settle personal scores.

मीटू के कारनामे

मिटू इस महीने एक ऐसा दहशतगर्द शब्द हो गया है कि कोई युवती अगर तोते को मिट्ठू कर के बुलाये तो भी लोगों को लगे यह मिटू कह रही है।

Misusing #MeToo

A fight between good and evil: people who want to protect and people who want to abuse has become a fight between Women VS Men.

This is how true feminism is defined not the one that the liberals claim

Feminism should be about 'equality' and not about males inferior to females.

Latest News

Recently Popular