Friday, December 9, 2022

TOPIC

#कोरोना #बाज़ार #संवेदना #खोखलापन

क्या “मानवता” ही हमारे समय की सबसे बड़ी अतिशयोक्ति है?

परिस्थितियों को देखने पर लगता है, “मानवता” ये शब्द अथवा तत्व ही हमारे समय की सबसे बड़ी अतिशयोक्ति है।

Latest News

Recently Popular