Tuesday, October 4, 2022
2 Articles by

vikarna

थूक मत जाहिल!

थूक मत जाहिल, अरे तू थूक मत जाहिल।

सब याद रखा जाएगा

महामारी से बचने को, सरकार की सख्ती वाजिब थी, पांच बार नमाज़ और सुन्नत की, अजीब तुम्हारी एक ज़िद थी। तुम सोचते हो हम भूलेंगे, पर सोचो कैसे भूलेंगे? जिसने सबको बीमार किया, वो निजामुद्दीन कि मस्जिद थी। सब याद रखा जाएगा।

Latest News

Recently Popular