Thursday, July 18, 2024
HomeHindiन रीट कर्फ्यू काम आया न नेटबन्दी, 8 जिलों में 40 से ज्यादा गिरफ्तार

न रीट कर्फ्यू काम आया न नेटबन्दी, 8 जिलों में 40 से ज्यादा गिरफ्तार

Also Read

Jitendra Meena
Jitendra Meenahttps://www.jitendragurdeh.in
Independent Journalist | Freelancers .

राजस्थान में रविवार को हुई REET (राजस्थान शिक्षक पात्रता परीक्षा) के दौरान गंगापुर सिटी सहित अन्य जिलों से भी बडी गडबडी सामने आई। लेवल-2 की परीक्षा सुबह 10 बजे से थी लेकिन इससे करीब डेढ घन्टे पहले ही यानी 8:32 बजे इसका पेपर एक कांस्टेबल के मोबाइल पर आ गया, एसओजी एड़ीजी अशोक राठौड़ ने यह जानकारी दी।

सोचने वाली बात है की कांस्टेबल की पत्नी भी रीट की परिक्षा में बैठी थी। सूत्रों की माने तो पुलिस के हत्थे ऐसी चार महिलाएं लगी जिनके पास से पेपर पहले ही आ गया था। इनमें से एक कांस्टेबल की पत्नी है और एक हेडकांस्टेबल की पत्नी है। फिलहाल दोनो पुलिसकर्मियो को निलम्बित किया गया है व 8 जनो को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है।

पूछताछ मे खुली पोल –
पिछले दिनो गंगापुर में पेपर लीक करवाने के मामले मे 15 लाख का सौदा करते हुए हुए पकडे गये। देशराज के मोबाइल से मिले नम्बरों के आधार पर इस पेपर लीक काण्ड का खुलासा हुआ। पुलिस का हेडकांस्टेबल देवेन्द्र सिंह और कांस्टेबल यदुवीर सिंह का नम्बर देशराज के मोबाइल चैट्स से लगातार मिला था।

8 जिलों में 40 से ज्यादा गिरफ्तार
नागौर मे 3 राजसमन्द में 2 और भरतपुर बूंदी मे 1-1 सरकारी शिक्षक गडबडी करते पकडे गये। राजसमन्द मे भाई और साले की जगह पेपर देने आये दो थर्ड ग्रेड शिक्षक गिरफ्तार किये गये। अजमेर में दो, सवाईमाधोपुर में 8 गिरफ्तार और सीकर में 1 को पकडा गया।

बीकानेर में 25 अभ्यर्थियों से 1.5 करोड में नकल का सौदा किया था। इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस लगी चप्पले 7.50 लाख रुपय में बेची गई। एक चप्पल 30 हजार में बेची सभी ब्लूटूथ से जुडी।

कही शिक्षक तो कही खाकी लिप्त
बोर्ड की माने तो करीब 13 लाख अभ्यर्थि परीक्षा मे शामिल हुए, न कही भगदड़ न कही उत्पात मचा। सरकार के नौकरों ने ही पूरी गडबडी की। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने पहले से ही ऐलान कर रखा था की सरकारी कर्मचारी के लिप्त पाये जाने पर उसे बर्खास्त किया जायेगा। उसके बाबजूद भी ये नही माने।

सोशल मीडिया पर एक लडकी का वीडियो भी वायरल है जिसमे वह बता रही है उनको पेपर मिलने से पहले से ही उनको पेपर खुला हुआ मिला।

  Support Us  

OpIndia is not rich like the mainstream media. Even a small contribution by you will help us keep running. Consider making a voluntary payment.

Trending now

Jitendra Meena
Jitendra Meenahttps://www.jitendragurdeh.in
Independent Journalist | Freelancers .
- Advertisement -

Latest News

Recently Popular