रवीश कुमार के नाम एक खुला पत्र – टीवी परदे पर पड़ा काला परदा दरअसल आपके ज़मीर पर पड़ा था

आपने देशद्रोह जैसे जघन्य अपराध को गरीबी, मासूम छात्र और अल्पसंख्यक जैसे मामलों में उलझा दिया. ये अन्याय था.