Saturday, October 24, 2020
Home Hindi “दर-अल-हरब” से “दर-अल- इस्लाम” तक: इस्लाम को अपने इन सिद्धांतों को बदलना होगा

“दर-अल-हरब” से “दर-अल- इस्लाम” तक: इस्लाम को अपने इन सिद्धांतों को बदलना होगा

Also Read

dhaara370
भूतपूर्व वायुसैनिक, भूतपूर्व सहायक अभियंता , कानिष्ठ कार्यपालक (मानव संसाधन)

क्या इस्लाम उपनिवेशवाद को अभिन्न अंग मानता है?

इस्लामी धर्मशास्त्र में “दर अल-हरब” और “दर अल-इस्लाम” के मायने क्या हैं? इन शब्दों का क्या मतलब है और यह मुस्लिम राष्ट्रों और चरमपंथियों को कैसे प्रवृत्त और प्रभावित करता है? आज के वैश्विक परिप्रेक्ष्य में यह समझना और समझाना अति महत्वपूर्ण हो गया है।

“दर अल-हरब” और “दर अल-इस्लाम” का अर्थ

सामान्य अर्थ में, “दर अल-हरब” को “युद्ध या अराजकता का क्षेत्र” के रूप में समझा जाता है। यह उन क्षेत्रों के लिए नाम है जहां इस्लाम प्रभावी नहीं है या सत्ता में नहीं है या फिर जहां अल्लाह के आदेश को नहीं माना जाता है। इसलिए, वहां निरंतर संघर्ष ही आदर्श है, जब तक कि वहां भी इस्लाम का शासन स्थापित ना हो जाए. काश्मीर से कश्मीरी पंडितों को मार कर, महिलायों का बलात्कार कर भागने पर मजबूर कर देना और तमिलनाडु में श्री रामलिंगम जैसे लोगों की हत्या कर दिया जाना इस बात का गवाह है कि हिंदुस्तान जैसे “दर-अल-हरब” क्षेत्र में संघर्ष हीं इस्लाम का आदेश है. पाकिस्तान में हिन्दू युवतियों का अपहरण कर धर्मान्तरण करवाना यह साफ़ करता है कि जब तक आखिरी इंसान अल्लाह के आदेश के सामने झुक नहीं जाता इस्लाम का संघर्ष जारी रहना चाहिए.

इसके विपरीत, “दर अल-इस्लाम” “अमन का क्षेत्र” है। यह उन क्षेत्रों/देशों के नाम है जहाँ इस्लाम का शासन है और जहाँ अल्लाह के आदेश को माना जाता है। यह वह जगह है जहां अमन और चैन राज करती है। पर इस सिद्धांत का खोखलापन आप ईरान,इराक, सीरिया, अफगानिस्तान, पाकिस्तान, फिलीस्तीन तथा अन्य इस्लामिक देशों की आतंरिक हालत से समझ सकते हैं.

पर भेद इतना सरल नहीं है जितना कि दिखाई देता है। दरअसल इस विभाजन का धर्म के बजाय कानूनी आधार माना जाता है। फर्ज कीजिये कि एक देश में इस्लामी सरकार है लेकिन वह आधुनिक मूल्यों के आधार पर चलता है जहाँ शरिया के बहुत से पुराने एवं अप्रासंगिक आदेशों को नहीं लागू किया जाता हो तो वैसे इस्लामी देश भी “दर अल-हरब” अथवा “युद्ध या अराजकता का क्षेत्र” की श्रेणी में रखे जायेंगे और चरमपंथियों की कोशिश रहेगी कि संघर्ष या राजनितिक नियंत्रण कर के वहां भी अल्लाह के आदेशों को हुबहू लागू किया जाय.

एक मुस्लिम बहुल देश, जो इस्लामिक कानून से शासित नहीं है, अभी भी “दर-अल-हरब” है। इस्लामी कानून द्वारा शासित एक मुस्लिम-अल्पसंख्यक राष्ट्र भी “दर-अल-इस्लाम” का हिस्सा होने के योग्य है। जहाँ भी मुसलमान प्रभारी हैं और इस्लामी कानून लागू करते हैं, वहाँ “दर-अल-इस्लाम” है।

“युद्ध के क्षेत्र” का मतलब

“दर-अल-हरब”, या “युद्ध का क्षेत्र” को थोड़ा और विस्तार से समझने की आवश्यकता है।

“दर-अल-हरब” अथवा युद्ध के क्षेत्र के रूप में इसकी पहचान इस सिद्धांत पर आधारित है कि अल्लाह के आदेशों का अवहेलना करने का अनिवार्य परिणाम है संघर्ष अथवा युद्ध।

जब हर कोई अल्लाह द्वारा निर्धारित नियमों का पालन करेगा, तो उसका परिणाम अमन और चैन होगा।

यहाँ बिलकुल स्पष्ट हो जाता है कि जब तक विश्व का हर व्यक्ति इस्लाम को कबूल नहीं कर लेता, तब तक “अमन का क्षेत्र” या “ दर अल-इस्लाम” कि स्थपाना नहीं मानी जायेगी और तब तक यह युद्ध जारी रहना चाहिए.

ध्यान देने योग्य तथ्य यह है कि “युद्ध” “दर-अल-हरब”और दर-अल-इस्लाम के बीच संबंध के बारे में भी वर्णन करता है। मुसलमानों से अपेक्षा की जाती है कि वे अल्लाह के आदेश और इच्छा को पूरी मानवता के लिए लाएँ और यदि आवश्यक हो तो बलपूर्वक ऐसा करें।

“दर-अल-हरब”को नियंत्रित करने वाली सरकारें इस्लामी रूप से वैध शक्तियां नहीं हैं क्योंकि वे अल्लाह से अपने अधिकार प्राप्त नहीं करती हैं। कोई फर्क नहीं पड़ता कि वास्तविक राजनीतिक प्रणाली क्या है, इसे मौलिक और आवश्यक रूप से अमान्य माना जाता है। हालाँकि, इसका मतलब यह नहीं है कि इस्लामिक सरकारें उनके साथ अस्थायी शांति संधियों में प्रवेश नहीं कर सकती हैं. व्यापार और सुरक्षा के लिए इस्लामिक सरकारें “दर-अल-हरब” को नियंत्रित करने वाली सरकारों के साथ अस्थायी संधियाँ कर सकती हैं, जैसा कि पाकिस्तान और चीन के बीच देखा जा सकता है।

सौभाग्य से, सभी मुसलमान वास्तव में गैर-मुस्लिमों के साथ अपने सामान्य संबंधों में इस तरह के व्यवहार नहीं करते हैं – अन्यथा, दुनिया शायद इससे भी बदतर स्थिति में होगी। पर यह भी कटु सत्य है कि आधुनिक समय में भी, इन सिद्धांतों और विचारों को कभी भी निरस्त नहीं किया गया है। उन सिद्धांतों को लागू किया जा रहा हो या नहीं पर ये सिद्धांत आज भी इस्लामिक समाज में गहरी जड़ें जमाई हुई है और उपयुक्त वातावरण पाते हीं उनका विकृत चेहरा हम सब को देखने को मिलता रहता है.

मुस्लिम राष्ट्रों और गैर मुस्लिम राष्ट्रों के सामने इस्लाम के औपनिवेशिक सिद्धांतों का सुरसा की तरह मुंह बाये चुनौतियाँ

इस्लाम और अन्य संस्कृतियों और धर्मों के साथ शांतिपूर्वक सह-अस्तित्व के लिए यह सिद्धांत एक बड़ी चुनौती के रूप में उपस्थित है. इसमें इस्लाम के अलावा अन्य सभी मान्यताओं के अस्तित्व को हर पल एक खतरे का आभास बना रहता है। जहाँ अन्य धर्मों ने अपने पुराने मान्यतायों को आधुनिक जरूरतों के अनुसार लगातार बदलता रहा वहीं इस्लाम आज भी इस तरह के सिद्धांतों को ढो रहा है। यह न केवल गैर-मुसलमानों के लिए बल्कि स्वयं मुसलमानों के लिए भी गंभीर खतरे पैदा करता है।

ये खतरे इस्लामी चरमपंथियों की देन है जो उन पुराने विचारों को औसत मुस्लिम की तुलना में बहुत अधिक शाब्दिक अर्थो में और अधिक गंभीरता से लेते हैं।यही कारण है कि मध्य पूर्व में आधुनिक धर्मनिरपेक्ष सरकारों को भी पर्याप्त रूप से इस्लामी नहीं माना जाता है . ऐसे में चरमपंथियों के अनुसार, यह उनका इस्लामिक फर्ज है कि काफिरों को सत्ता से पदच्युत कर पुनः अल्लाह का शासन स्थापित करे, चाहे उसके लिए कितना ही खून क्यूँ ना बहाना पड़े.

इस धारणा से उस रवैये को बल मिलता है कि यदि कोई क्षेत्र जो कभी दर अल-इस्लाम का हिस्सा था, वह दर अल-हरब के नियंत्रण में आता है, तो यह इस्लाम पर हमला माना जाएगा । इसलिए, सभी मुसलमानों का फर्ज है कि वे खोई हुई भूमि को पुनः प्राप्त करने के लिए संघर्ष करें। यह विचार धर्मनिरपेक्ष अरब सरकारों के विरोध में न केवल कट्टरता को प्रेरित करता है, बल्कि इजरायल राज्य के अस्तित्व को भी चुनौती देता रहता है। चरमपंथियों के लिए, इज़राइल दर अल-इस्लाम क्षेत्र पर एक घुसपैठ है और इस्लामी शासन को उस भूमि पर पुनः बहाल करने से कम कुछ भी स्वीकार्य नहीं है।

उपसंहार

इस्लाम का कानून या अल्लाह का आदेश सभी लोगों तक पहुँचाने का धार्मिक लक्ष्य को लागू करने के प्रयास में नतीजतन लोग मरेंगे – यहां तक ​​कि मुस्लिम या गैर मुस्लिम, बच्चे और औरतें और अन्य सामान्य नागरिक कोई भी हो। और यह उन सबको भली प्रकार पता भी है. फिर भी वे अगर जान हथेली पर लिए चलते हैं तो उसका कारण है इस्लाम का कर्तव्य के प्रति निष्ठा ना की परिणाम के प्रति. मुस्लिम नैतिकता कर्तव्य की नैतिकता है, परिणाम की नहीं। नैतिक व्यवहार वह है जो अल्लाह के आदेशों के अनुसार हो और जो अल्लाह की इच्छा का पालन करता हो चाहे परिणाम स्वरुप बच्चे और औरतों के ऊपर जुल्म क्यूँ न ढाना पड़े । अनैतिक व्यवहार वह है जो अल्लाह की आदेशों का अवज्ञा करता है। कर्तव्य पथ पर चलने के भयानक एवं दुर्भाग्यपूर्ण नतीजे हो सकते हैं, पर इस्लाम कर्त्तव्य को प्राथमिक मानता है परिणाम को नहीं.परिणाम व्यवहार के मूल्यांकन के लिए एक मानदंड के रूप में काम नहीं कर सकता है। इसी का गलत फायदा उठाकर चरमपंथी धर्मगुरु नौजवानों को आतंकवादी घटना अंजाम देने के लिए मानसिक तौर पर तैयार करते हैं. उन्हें यह अच्छी तरह पढ़ा दिया जाता है कि अल्लाह के रास्ते पर चलते हुए बच्चे, औरतें, सामान्य नागरिक कोई भी मरें फर्क नहीं पड़ता क्यूंकि तुम अल्लाह के आदेश का पालन करने के लिए ये सब कर रहे हो.

Disclaimer: किसी की धार्मिक भावना को आहत करना कतई उद्देश्य नहीं है, उद्देश्य सिर्फ यह है कि हम एक दुसरे शांतिपूर्ण सह अस्तित्व के सामने खड़े चुनौतियों को समझें और उसका समाधान करें .

  Support Us  

OpIndia is not rich like the mainstream media. Even a small contribution by you will help us keep running. Consider making a voluntary payment.

Trending now

dhaara370
भूतपूर्व वायुसैनिक, भूतपूर्व सहायक अभियंता , कानिष्ठ कार्यपालक (मानव संसाधन)
- Advertisement -

Latest News

Joe Biden is not Trump, Joe Biden might be worse than Trump

A man who belongs to the elitist coterie that will use American taxpayers’ money to fuel terrorism in other countries and a woman who can disown her ethnic identity — and they are expected to bring in inclusivity to American society?

Looking back at ‘anti-CAA agitation’ after ten months

If Muslims in India in particular and South East Asia in general continue to practice “heads I win, tails you lose”, soul of India will be determined by right wing Indian Hindus in coming days!

Constitutional threat to secularism in India

If we look the legality of secular and socialist words in terms of constitution and constitution related cases we find that in two scenarios- 42th amendment in which secular and socialist words in preamble can legally be challenged.

Republic Vs Lutyens Media: Why Arnab is winning

Arnab is winning, because all those ganged up against him have little or no credibility.

Kamala Harris as Maa Durga opens up questions about her true identity

Hindu Americans are still not clear on what religion Kamala Harris or Meena Harris follow. Little do they know that neither Kamala Harris nor Meena Harris follow the Hindu faith, Kamala Harris considers herself a Baptist Christian.

Congress: Staring at bleak future

It has been more than six years since congress is kicked out of the power, but there is absolutely no change in Congress’s attitude. It continues to support anti-India elements. Look what Congress is doing

Recently Popular

Kamala Harris as Maa Durga opens up questions about her true identity

Hindu Americans are still not clear on what religion Kamala Harris or Meena Harris follow. Little do they know that neither Kamala Harris nor Meena Harris follow the Hindu faith, Kamala Harris considers herself a Baptist Christian.

How Gandhi fellows are bringing positive change in rural government schools through intervening with stakeholders (Journey of Gandhi fellows)

Gandhi Fellowship is a two-year residential program in transformation leadership for youths who wants to bring changes in rural schools.

Joe Biden and Kamala Harris: Don’t muddy waters in the land of Brahmaputra

Biden-Harris ticket has decried CAA saying essentially that it is discriminatory to Muslims because it excludes them from Indian citizenship.

The story of Lord Jagannath and Krishna’s heart

But do we really know the significance of this temple and the story behind the incomplete idols of Lord Jagannath, Lord Balabhadra and Maa Shubhadra?

परम पूज्यनीय से भेंट

सामान्य व्यक्ति के लिए शायद यह लेख 'तिल का ताड़' हो, किंतु एक स्वयंसेवक के लिए अभूतपूर्व अनुभव हो सकता है।