Saturday, June 6, 2020
Home Hindi एक साथ एक समय पर गंगा के दो सौ घाटों पर स्वच्छता अभियान चलाकर...

एक साथ एक समय पर गंगा के दो सौ घाटों पर स्वच्छता अभियान चलाकर एक नया इतिहास

Also Read

anupamkpandey
IT Analyst, Blogger, Social Media Expert
 

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के स्वच्छता अभियान को और सशक्त करते हुए; गायत्री परिवार के कार्यकर्ता भाई-बहिनों एवं देव संस्कृति विश्वविद्यालय परिवार द्वारा निरन्तर संचालित माँ गंगा स्वच्छता अभियान

“अपना सुधार संसार की सबसे बडी सेवा है” – युगऋषि पंडित श्रीराम शर्मा आचार्य

श्रद्धेय डॉ.प्रणव पण्ड्या जी (कुलाधिपति, दे.सं.वि.वि. एवं प्रमुख, अखिल विश्व गायत्री परिवार) गंगा सफाई के दौरान
श्रद्धेय डॉ.प्रणव पण्ड्या जी (कुलाधिपति, दे.सं.वि.वि. एवं प्रमुख, अखिल विश्व गायत्री परिवार) गंगा सफाई के दौरान

अखिल विश्व गायत्री परिवार ने निर्मल गंगा जन अभियान के अंतर्गत गंगोत्री से गंगासागर तक एक साथ एक समय पर गंगा के दो सौ घाटों पर स्वच्छता अभियान चलाकर एक नया इतिहास रचा। उत्तराखंड के कोटी कालोनी, नई टिहरी, देवप्रयाग, ऋषिकेश, हरिद्वार से लेकर उत्तर प्रदेश के कानपुर, वाराणसी तक माँ गंगा घाटों पर चलाया गया वृहद स्वच्छता अभियान

v1
समग्र स्वच्छ्ता कार्यक्रम में सफाई करने हेतु प्रस्थान करते देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के विद्यार्थीगण

v2

 

 

काशी में निर्मल गंगा जन अभियान; तुलसी घाट सहित, राजेंद्र प्रसाद घाट से लेकर अस्सी घाट तक चला: गायत्री परिवार के कार्यकर्ताओं के इस अभूतपूर्व योगदान की चर्चा काशी की नागरिकों के मध्य सराहना का केंद्र बना हुई है | आदरणीय अशोक जी के अनुसार निरंतर माँ गंगा की स्वच्छता एवं निर्मलता हेतु गायत्री परिवार अपना योगदान देता रहेगा।

गायत्री परिवार ने गंगोत्री से लेकर गंगासागर तक २५२५ किमी की दूरी तय करने वाली पापनाशिनी माँ गंगा को स्वच्छ करने का दायित्व उठाया है। राष्ट्रीय स्तर पर निर्मल गंगा जन अभियान का शुभारंभ किया जा चुका है, गंगा के दोनों तटों की ओर बसने वाले लोगों में जन जागरण किया जा रहा एवं भारत की जीवनदायिनी माँ गंगा को निर्मल करने में सहयोग करने हेतु प्रेरित किया जा रहा है। गंगोत्री से गंगासागर तक के तीन चरण के कार्य पूरे हो चुके हैं – अखिल विश्व गायत्री परिवार प्रमुख डॉ. प्रणव पण्ड्या  

२, १३, १८ अक्टूबर के बाद २५ अक्टूबर को भी गायत्री परिवार के हजारों कार्यकर्ताओं ने निःस्वार्थ भाव से गंगा स्वच्छता अभियान में सहभागिता दर्ज़ की।

 

स्वच्छता के साथ वृक्षारोपण का कार्य ऐसा है जिससे स्वास्थ्य रक्षा भी होती है तथा पर्यावरण सन्तुलन की दिशा में महत्त्वपूर्ण योगदान संभव होता है। अतएव २७ अक्टूबर को शांतिकुंज से १०० साइकिलों की टोली भारत के गाँव-देहातों में बसी आबादियों तक गंगा स्वच्छता का संदेश पहुँचाने हेतु रवाना हुई।

शांतिकुंज के अतिरिक्त देश के विभिन्न स्थानों से भी गंगा सफाई हेतु साइकिल टोलियाँ निकलेंगी एवं निर्दिष्ट स्थानों पर जाकर गंगा स्वच्छता कार्य में सम्मिलित होंगी – अभियान पर कार्य कर रहे श्री केदार प्रसाद दुबे  

गंगा सहित ५० से अधिक नदियों तथा अन्य क्षेत्रों में भी चल रहे यह स्वच्छता कार्य सतत चलते रहने चाहिए एवं साथ ही वृक्षारोपण भी होते रहने चाहिए जिससे पर्यावरण सन्तुलन बना रहे – गायत्री परिवार प्रमुख आदरणीया शैलबाला पण्ड्या

 

प्रस्तुत हैं स्वच्छता अभियान की कुछ झलकियाँ:

gy3

VARANASI 2

VARANASI 1

gy12

VARANASI 7

  Support Us  

OpIndia is not rich like the mainstream media. Even a small contribution by you will help us keep running. Consider making a voluntary payment.

Trending now

anupamkpandey
IT Analyst, Blogger, Social Media Expert

Latest News

Curious case of marginalisation of Hindus: A report on institutionalised discrimination against Hindu majority population by secular nation state of India.

Hindus who are religious minority in various states and union territories are not beneficiary of various schemes run by our secular govt despite their low representation in administration or their socio-economic backwardness in their respective states where they are religious minority.

आबादी: समस्या या बहाना?

जब सीमित संसाधनों वाले भारत देश को विकास की तरफ ले जाना था, तो जहां इंदिरा गांधी ने 'हम दो हमारे दो' की बात की, जिससे आबादी की बढ़ोत्तरी में कमी आए, तब उत्तर भारत के वामपंथी सोच के तथाकथित सोशलिस्ट नेता अपने-अपने वोट-बैंक के लिए 'जिसकी जितनी संख्या भारी, उसकी उतनी हिस्सेदारी (संसाधन लेने में, टैक्स भरने में नहीं)' का राग अलाप रहे थे।

केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने फिर से खोलने वाले स्थानों के लिए एक मानक संचालन प्रक्रिया (SPO) की जारी

जैसा कि अनलॉक India का पहला चरण सोमवार से लागू हो गया है, केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने (Covid-19) को फिर से खोलने वाले स्थानों में फैलाने के लिए एक मानक संचालन प्रक्रिया (SPO) जारी की है।

India needs to support ‘Free Tibet’ and rectify the mistake of Nehruvian era

According to Claude Arpi, a French expert on Tibet and China, said, Without Delhi’s active support, the Chinese troops would not have been able to survive in Tibet."

Differences between natural religions and reactionary religions

It is the distinction between idol worshipers and idol smashers, the distinction between cow worshipers and beef eaters,the distinction between Devi worshipers and women offenders, the distinction between the sacredness of marriage and the system of Halala.

CAA: A necessary evil or a framed Hornet’s Nest?

Manmohan Singh, a man whose silence was often taken as sainthood, he was exclusively vocal about the issue in 2003, felt it was India’s moral obligation, to offer asylum to the minorities of our neighboring countries suffering from religious persecution.

Recently Popular

The journey of anti-CAA virus in the U.S.: A tale of three cities

Kshama Sawant, a Hindu immigrant embraces Hindu phobic ideology and lead an anti-India campaign to seek a stage for her future political dreams.

Differences between natural religions and reactionary religions

It is the distinction between idol worshipers and idol smashers, the distinction between cow worshipers and beef eaters,the distinction between Devi worshipers and women offenders, the distinction between the sacredness of marriage and the system of Halala.

SATYAN NASTI PARO DHARMA: An answer to Fatima Khan

Crypto-coded language used by writer is indicative of the fact that the involved forensic expert is biased, his report can be directed against one community and union HM is probably a partition .

Were Kashmiri Pandits cowards to have left Kashmir in 1990?

Had Kashmiri Pandits capitulated and chanted “Azadi”, India would have lost Kashmir there and then. Mull over it.

Corona and a new breed of social media intellectuals

Opposing an individual turned into opposing betterment of your own country and countrymen.